Home » बिज़नेस » SoftBank eyes $2-3 billion investment in Mukesh Ambani's Reliance Jio
 

Jio पर है 76 हजार करोड़ से ज्यादा का कर्ज, अंबानी सॉफ्टबैंक को बेच सकते हैं हिस्सेदारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 April 2019, 11:07 IST

जापान का सॉफ्टबैंक रिलायंस इंडस्ट्रीज की दूरसंचार सहायक कंपनी और देश की सबसे तेजी से बढ़ती टेलीकॉम कंपनी रिलायंस जियो में 2-3 बिलियन डॉलर की हिस्सेदारी खरीदने पर विचार कर रहा है. रिलायंस के पेट्रोकेमिकल कारोबार में सऊदी अरामको द्वारा हिस्सेदारी खरीदने की ख़बरों के बीच यह भी एक बड़ा कदम माना जा रहा है.

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के अनुसार अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) अपनी बैलेंस शीट को डीलेवर करने में रुचि रखती है.रिपोर्टों के अनुसार, सॉफ्टबैंक विज़न फंड के माध्यम से अपने निवेश के लिए उचित परिश्रम का संचालन कर रहा है. रिपोर्ट के अनुसार रिलायंस जियो और सॉफ्टबैंक दोनों के प्रवक्ताओं ने इस मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

 

रिटेल और टेलिकॉम आर्म्स ने मिलकर RIL के 2018-19 रेवेन्यू का 25 फीसदी योगदान दिया. सॉफ्टबैंक का जापान में मोबाइल दूरसंचार व्यवसाय है और वह अमेरिका में स्प्रिंट का भी मालिक है. चीनी ई-कॉमर्स दिग्गज अलीबाबा में भी इसकी 30 फीसदी हिस्सेदारी है. मार्च 2019 की तिमाही के अंत में Jio पर 76,212 करोड़ रुपये का कर्ज था, और RIL इसे कम करना चाह सकती है.

मार्च 2019 की तिमाही में Jio ने पूंजीगत व्यय के रूप में 21,500 करोड़ रुपये का निवेश किया और संचयी निवेश अब तक लगभग 2.9 ट्रिलियन रुपये हो गया है. एक विश्लेषक ने नाम न बताने की शर्त पर कहा "आरआईएल निवेश जारी रखने के लिए Jio में एक इक्विटी निवेशक को देख सकता है क्योंकि यह कम टैरिफ पर सेवाएं प्रदान करना जारी रखता है."

आरआईएल के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने पिछले साल न्यू कॉमर्स नामक एक उपभोक्ता मंच के माध्यम से दूरसंचार और खुदरा संस्थाओं को एकीकृत करने की योजना की घोषणा की. हालांकि, विश्लेषक के इस अटकल के बावजूद कि इसे इस साल लॉन्च किया जाएगा.

First published: 24 April 2019, 11:07 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी