Home » बिज़नेस » State Bank of India reduced the NEFT and RTGS charges up to 75%, effective from 15 July.
 

SBI ने ग्राहकों को दी डबल सौगात, 75% तक घटाया NEFT और RTGS चार्ज

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2017, 16:35 IST
neft

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने लगातार दूसरे दिन डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने के लिए एक बड़ा फैसला लिया है. उसने इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को फिर एक बड़ी राहत दी है.

आईएमपीएस (तत्काल भुगतान सेवा) हस्तांतरण पर शुल्क समाप्त समाप्त करने के बाद इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों के लिए नेशनल इलेक्‍ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) और रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) के चार्जेज में 75 फीसदी तक की बड़ी कटौती की गई है. यह कटौती 15 जुलाई से लागू हो जाएगी. 

एसबीआई फिलहाल 10 हजार रुपये की NEFT पर ग्राहकों से 2 रुपये वसूलता है, लेकिन अब इस कटौती के बाद चार्जेज घटकर 1 रुपये पर आ जाएंगे. साथ ही, इस पर 18 फीसदी जीएसटी वसूल किया जाएगा.

बुधवार को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने घोषणा की थी कि, अब 1,000 रुपये तक के आईएमपीएस हस्तांतरण पर कोई शुल्क नहीं लेगा. इसके अलावा 1,000-1,00,000 रुपये के लेन-देन पर 5 रुपये और 1,00,000 रुपये-2,00,000 रुपये पर 15 रुपये शुल्क देय होगा.

इसके अलावा अब ग्राहकों को नए चेक बुक के लिए 10 रुपये, लीफ चेक बुक के लिए 30 रुपये, 25 लीफ के लिए 75 रुपये के अलावा 18 फीसदी जीएसटी और 50 लीफ के लिए 150 रुपये के साथ-साथ कर भुगतान करना होगा. एसबीआई ने कहा है कि 1 जून से नए एटीएम कार्ड पर शुल्क वसूला जाएगा. रुपे क्लासिक कार्ड नि:शुल्क जारी होंगे. 

First published: 13 July 2017, 16:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी