Home » बिज़नेस » Steel demand in India to outpace regional average: Moody's
 

मांग में मजबूती से शानदार रहेगा भारतीय स्टील कंपनियों का प्रदर्शन: मूडीज

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 August 2016, 7:12 IST
QUICK PILL
  • भारत में स्टील की मांग एशियाई औसत से ज्यादा रहने की उम्मीद है. मूडीज की रिपोर्ट के मुताबिक घरेलू मांग में बढ़ोतरी होने की वजह से इस क्षेत्र में काम करने वाली अन्य कंपनियों के मुकाबले भारतीय स्टील कंपनियों के मुनाफे में बढ़ोतरी होगी.
  • मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस की रिपोर्ट में कहा गया है, \'भारत में स्टील की मांग क्षेत्रीय औसत से ज्यादा रहेगी क्योंकि 2016 और 2017 में देश की जीडीपी करीब 7.5 फीसदी रहने का अनुमान है जो एशिया में सबसे अधिक होगा.\' 
  • एशियाई उत्पादन में भारत की हिस्सेदारी करीब 8 फीसदी है और आने वाले दिनों में घरेलू मांग में बढ़ोतरी होने की वजह से उत्पादन में बढ़ोतरी होगी. 

भारत में स्टील की मांग एशियाई औसत से ज्यादा रहने की उम्मीद है. मूडीज की रिपोर्ट के मुताबिक घरेलू मांग में बढ़ोतरी होने की वजह से इस क्षेत्र में काम करने वाली अन्य कंपनियों के मुकाबले भारतीय स्टील कंपनियों के मुनाफे में बढ़ोतरी होगी.

मूडीज इनवेस्टर्स सर्विस की रिपोर्ट में कहा गया है, 'भारत में स्टील की मांग क्षेत्रीय औसत से ज्यादा रहेगी क्योंकि 2016 और 2017 में देश की जीडीपी करीब 7.5 फीसदी रहने का अनुमान है जो एशिया में सबसे अधिक होगा.' 

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में इंफ्रास्ट्रक्चर और मैन्युफैक्चरिंग के लिए नीतिगत सुधार आधारित कदम के साथ शहरीकरण में हो रही बढ़ोतरी से स्टील की खपत में बढ़ोतरी होगी.

स्टील-एशिया: लोअर अर्निंग्स कीप आउटलुक नेगेटिव नाम से जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि घरेलू मांग में बढ़ोतरी होने और भारत सरकार की तरफ से संरक्षणवादी कदम उठाए जाने के कारण टाटा स्टील और जेएसडब्ल्यू स्टील जैसी स्टील कंपनियों को अन्य एशियाई कंपनियों के मुकाबले अधिक मुनाफा कमाने का मौका मिलेगा. 

भारत सरकार ने न्यूनतम आयात मूल्य औरर एंटी डंपिंग ड्यूटी लगाकर देश की स्टील कंपनियों को राहत देने की कोशिश की है. बुधवार को बीएसई सेंसेक्स में स्टील कंपनियों के शेयरों में जबरदस्त तेजी देखने को मिली.

मजबूत रहेगी कंपनियों की आय

एसऐंडपी बीएसई मेटल इंडेक्स 2.06 फीसदी की तेजी के साथ 206.16 अंक चढ़कर 10098.78 पर बंद हुआ. सेल के शेयरों में 4.45 फीसदी, टाटा स्टील में 3.20 फीसदी  जबकि जिंदल स्टील के शेयर 1.48 फीसदी चढ़कर बंद हुए. वहीं वेदांत के शेयर 0.71 फीसदी ऊपर बंद हुआ.

रिपोर्ट में कहा गया है कि टाटा स्टील की कलिंगनगर की ग्रीन परियोजना और जेएसडब्ल्यू के मौजूदा संयंत्र के क्षमता विस्तार से 2016 में कंपनियों की आय में बढ़ोतरी होगी.

मूडीज की रिपोर्ट बताती है, 'हम उम्मीद करते हैं कि रेटेड स्टील कंपनियों का मुनाफा इस क्षेत्र की स्टील कंपनियों के औसत से ज्यादा रहने की उम्मीद है क्योंकि यह कंपनियां अपने देशों में अग्रणी हैं और अपने उत्पाद अधिक मार्जिन पर बेचती हैं. साथ ही विविधिकरण और एकीकरण से इन्हें अपने बिजनेस में मदद मिलती है.'

रिपोर्ट में कहा गया है कि एशिया के स्टील डिमांड में गिरावट का दौर जारी रहेगा और इसकी बड़ी वजह चीन के मैन्युफैक्चरिंग और प्रॉपर्टी सेक्टर्स में आई मंदी है. 

हालांकि इस बीच भारत और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों की मांग में बढ़ोतरी होगी लेकिन यह चीन की तरफ से आई मांग में कमी की भरपाई नहीं कर पाएगा. स्टील की कुल एशियाई खपत में चीन की हिस्सेदारी करीब 70 फीसदी है.

2015 में चीन ने अपने यहां उत्पादित कुल स्टील का 14 फीसदी हिस्सा निर्यात किया.

चीन की तरफ से सस्ते स्टील के निर्यात को रोकने के लिए कई देश अपनी स्टील इंडस्ट्री को सुरक्षित करने की कोशिश कर रहे हैं. चीन के जनरल एडमिस्ट्रिेशन ऑफ कस्टम्स के आंकड़ों के मुताबिक 2016 की पहली छमाही में चीन के स्टील निर्यात में 9 फीसदी की गिरावट आई है.

2015 में चीन ने अपने यहां उत्पादित कुल स्टील का 14 फीसदी हिस्सा निर्यात किया. भारत को छोड़कर अन्य एशियाई स्टील उत्पादक देशों के उत्पादन में गिरावट आने की उम्मीद है. घरेलू मांग में कमी आने की वजह से जापान, कोरिया और ताईवान अपने उत्पादन में कटौती कर चुके हैं. यह देश अपने कुल उत्पादन का करीब 50 फीसदी तक निर्यात करते हैं. 

एशियाई उत्पादन में भारत की हिस्सेदारी करीब 8 फीसदी है और आने वाले दिनों में घरेलू मांग में बढ़ोतरी होने की वजह से उत्पादन में बढ़ोतरी होगी. 

First published: 18 August 2016, 7:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी