Home » बिज़नेस » Sterling Biotech case: Witness claims he sent bribe to Congress leader Ahmed Patel’s house, says ED
 

स्टर्लिंग बायोटेक मामला: ED का दावा-कांग्रेस नेता अहमद पटेल के घर तक पहुंचाई गई थी रिश्वत

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 August 2018, 13:14 IST

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को पटियाला हाउस कोर्ट में कहा कि इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया के सहयोगी और सांसद अहमद पटेल के घर रिश्वत भेजी गई थी. एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार जांच एजेंसी ने दावा किया कि उसके पास इस मामले में गवाह का बयान, टेलीफ़ोनिक चैट और वित्तीय लेनदेन इसे साबित करने के लिए मौजूद हैं.

एजेंसी ने कहा इन सबूतों से साफ होता है कि 25 लाख रुपये पटेल के आधिकारिक निवास - '23 मदर टेरेसा क्रिसेंट' भेजे गए थे. हालांकि अहमद पटेल ने आरोपों को आधारहीन बताया.

मनी लॉंडरिंग मामले के आरोपी रंजीत मलिक की हिरासत में अपील करते हुए एजेंसी ने आरोप लगाए. 18 जुलाई को प्रवर्तन निदेशालय ने 5,383 करोड़ रुपये के कथित ऋण चूक के संबंध में गुजरात स्थित फार्मास्युटिकल कंपनी स्टर्लिंग बायोटेक के निदेशक के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया था.

 

प्रवर्तन निदेशालय ने कहा कि राकेश चन्द्र नामक एक गवाह ने दावा किया कि उसने मलिक के लिए पटेल के निवास स्थान तक पैसे पहुंचाए थे. 28 अक्टूबर को केंद्रीय जांच ब्यूरो ने 5,383 करोड़ रुपये के ऋण पर चूक के लिए कंपनी के खिलाफ मामला दर्ज किया था. सीबीआई ने आरोप लगाया है कि कंपनी ने आंध्र बैंक की अगुवाई में बैंकों के एक संघ से ऋण लिया, जो और ये अब एनपीए में बदल गया.

सीबीआई ने स्टर्लिंग बायोटेक के निदेशक चेतन जयंतील संदेसरा, दीप्ति चेतन संदेसरा, राजभूषण ओमप्रकाश दीक्षित, नितिन जयंतील संदेसरा और विलास जोशी, चार्टर्ड अकाउंटेंट हेमंत हाथी, आंध्र बैंक अनूप गर्ग और अन्य अज्ञात लोगों इस मामले में नामित किया था. प्रवर्तन निदेशालय ने अक्टूबर में कंपनी और उसके प्रमोटर नितिन और चेतन संदेसरा के खिलाफ मनी लॉंडरिंग केस भी दर्ज किया था.

ये भी पढ़ें : गौतम अडानी ने प्राप्त किये 11 शहरों में CNG बेचने के लाइसेंस

First published: 4 August 2018, 13:13 IST
 
अगली कहानी