Home » बिज़नेस » Subhash chnadra Essel invest Rs 1,750 cr to set up electric vehicle charging infrastructure
 

सुभाष चंद्रा रखने जा रहे हैं बैटरी चार्जिंग के कारोबार में कदम, यूपी में करेंगे 1,750 करोड़ का निवेश

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 July 2018, 17:45 IST
(DNA )

एस्सल इंफ्राप्रोजेक्ट्स ने रविवार को कहा कि वह इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग और बैटरी स्वैपिंग इंफ्रास्ट्रक्चर स्थापित करने के लिए 1,750 करोड़ रुपये निवेश करने की योजना बना रहा है. सुभाष चंद्र के नेतृत्व वाले एस्सल इंफ्राप्रोजेक्ट्स लिमिटेड (ईआईएल) ने लखनऊ में एस्सल ग्रीन मोबिलिटी लिमिटेड के तहत अपनी इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग और बैटरी स्वैपिंग इंफ्रास्ट्रक्चर पहल की शुरुआत की.

इस परियोजना के तहत कंपनी उत्तर प्रदेश के 20 शहरों में 250 चार्जिंग स्टेशनों, 1000 बैटरी स्वैपिंग स्टेशनों के लॉन्च के साथ चरणबद्ध तरीके से 1,750 करोड़ रुपये का निवेश करेगी. यह घोषणा लखनऊ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी समारोह के दौरान की गई. इस अवसर पर बोलते हुए एस्सेल समूह के अध्यक्ष सुभाष चंद्र ने कहा "इस पहल के लॉन्च के साथ, हमने राज्य के साथ अपने सहयोग को बढ़ाया है और स्वच्छ गतिशीलता के सरकार के दृष्टिकोण में अपना काम करने की उम्मीद है.

 

उन्होंने कहा ईवीएस को समग्र तरीके से लॉन्च करना राज्य के परिवहन बुनियादी ढांचे में वृद्धि करेगा और नौकरी के अवसर भी पैदा करेगा ".


सुभाष चंद्रा ने कहा, 'हमने इसका एक हल सोचा कि इस बैटरी को लिथियम आयन बैटरी से बदला जाए. इससे बैटरी को चार्ज होने में एक घंटा लगेगा.' उन्होंने बताया कि एक दूसरा विकल्प भी है कि बैटरी को चार्ज करने की जगह पहले से चार्ज बैटरी से रिप्लेस कर दिया जाए. ऐसा करने में सिर्फ चार मिनट लगेंगे और ई-रिक्शा चालकों की आय करीब दोगुनी हो जाएगी.

सुभाष चन्दा ने दावा किया कि एस्सल समूह उत्तर प्रदेश में 1750 करोड़ रुपये निवेश करेगा और इससे 50,000 लोगों को सीधे रोजगार मिलेगा. कंपनी इस प्रोजेक्ट की शुरुआत गाजियाबाद से करेगी और फिर लखनऊ, कानपुर, आगरा, नोएडा, मेरठ, वाराणसी, गोरखपुर और इलाहाबाद जैसे शहरों में इसका विस्तार करेगी.

ये भी पढ़ें : Hero MotoCorp अब तुर्की और ईरान के बाजार में छा जाने की तैयारी कर रही है

First published: 29 July 2018, 17:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी