Home » बिज़नेस » success story: A milk startup milk mantra takes on 300 million cows
 

Success story: लंदन से करोड़ों की नौकरी छोड़कर भारत में खड़ा किया सबसे सफल मिल्क स्टार्टअप

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 July 2018, 11:14 IST

जब श्रीकुमार मिश्रा 2010 में लंदन से एक दूध कंपनी लॉन्च करने के लिए पूर्वी भारतीय शहर में वापस आये तो यह एक यह सिलिकॉन वेली से बहुत दूर था. आज सोशल मीडिया, स्मार्टफोन ऐप और बड़े डेटा एनालिटिक्स के साथ मिश्रा का डेयरी व्यवसाय 'मिल्क मंत्रा' सैकड़ों स्टार्टअप कंपनियों में से एक है जो भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में इंटरनेट के जरिये लोगों तक पहुँच रही है. इससे पहले मिश्रा टाटा समूह के पूर्व कर्मचारी रह चुके हैं.

भारत दुनिया के सबसे बड़े डेयरी उद्योग में से एक है जो 300 मिलियन भैंस और गायों का दावा करता है. आंकड़ों के अनुसार ये सालाना 165 मिलियन मीट्रिक टन दूध पैदा करते हैं, फिर भी औसत किसान के पास केवल दो मवेशी हैं, और अधिकांश सड़कों और बिजली के बिना कम जगह या परिवार के साथ खेतों में रहते हैं. अमेरिका दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक, जहां औसत डेयरी फार्म में लगभग 150 गायें हैं. भारत में दूध लाखों छोटे स्टोर , सड़क के किनारे स्टालों और घरेलू डिलीवरी पुरुषों के माध्यम से वितरित किया जाता है.

 

इस व्यवसाय में मिश्रा और उनकी पत्नी रशिमा, एक मार्केटिंग कार्यकारी भागीदार है. इन्होने एक ब्रांड के बारे में जो कल्पना की थी उन्होंने भारत में दूर को स्टोर करने के नए तरीकों को विकसित किया, जिसमे उन्होंने बताया कि दूध उबालने की कोई ज़रूरत नहीं है. उनका मानना था कि भारत का मध्यम वर्ग उच्च गुणवत्ता वाले, स्वस्थ उत्पाद पर अधिक खर्च करेगी.

इससे पहले उनकी कंपनी दूध मंत्रा को एक कारखाने और सप्लाई नेटवर्क की आवश्यकता थी, जिनमें से दोनों को पूंजी की आवश्यकता थी. मिश्रा ने भारतीय कृषि स्टार्टअप, उद्यम पूंजी के लिए धन उभरते हुए स्रोत को खोजा जो कि 2009 में कोई आसान काम नहीं था. वेंचर पूंजीपति भारत में तेजी से सक्रिय रहे हैं. ओडिशा भारत के ऐसे राज्यों में शामिल है जहां देश के डेयरी निवेशकों की नजर है.

मिल्क मंत्र अनौपचारिक कलेक्टरों की तुलना में किसानों को दूध के लिए अधिक भुगतान करता है. वह किसानों को यह जानकारी भी देते हैं कि उनका दूध किस लायक है. मिल्क मंत्र भी किसानों को फ़ीड के बारे में पशु चिकित्सा सहायता और जानकारी प्रदान करता है.

ये भी पढ़ें : चौथे दिन फिर बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए क्या हैं नई कीमतें

First published: 8 July 2018, 11:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी