Home » बिज़नेस » Supreme-court gave order to Tata adani cannot increase power tariff .
 

टाटा और अडानी को बड़ा झटका, इस आदेश के बाद नहीं बढ़ा पाएंगे बिजली के दाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 April 2017, 12:21 IST

सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश ने टाटा पावर और अडानी पावर की मुसीबत बढ़ा दी है. टाटा और अडानी की बिजली कंपनियां इस आदेश के बाद देश के पांच राज्यों में बिजली के रेट नहीं बढ़ा पाएंगी. सुप्रीम कोर्ट ने किसी भी आधार पर दोनों कंपनियों को किसी भी प्रकार की राहत देने से इनकार कर दिया है,.

अपने बिजली संयंत्रों के लिए मुआवजा मांगने पर पांच साल पुराने मामले में दोनों बड़ी बिजली कंपनियों को बड़ा झटका लगा है. सुप्रीम कोर्ट ने काह कि अंतरराष्ट्रीय कानून में किसी तरह के बदलाव का भार बिजली दरों पर नहीं डाला जा सकता है.

इस आदेश के बाद देश के पांच राज्यों गुजरात, पंजाब, महाराष्ट्र, राजस्थान और हरियाणा में अब ये कंपनियां बिजली के टैरिफ में बढ़ोतरी नहीं कर पाएंगी. सुप्रीम कोर्ट ने इन 5 राज्यों में कंपनशेटरी टैरिफ बढ़ाने को नामंजूर कर दिया है. ॉ

कोर्ट ने CERC के दिसंबर 2016 कंपनशेटरी टैरिफ के आदेश को पलटा है जिसमें दोनों कंपनियों की दलील थी कि इंडोनेशिया ने नए नियमों के तहत कोयले के दाम बढ़ा दिए थे. जिसकी वजह से बिजली बनाने में उनका खर्च बढ़ गया है. इन पांचों राज्यों में दोनों की कंपनियां 8620 MW बिजली सप्लाई करती हैं.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का असर टाटा और अडानी की बिजली कंपनियों के शेयरों पर भी पड़ा. बॉम्बे स्टॉक एक्सचेेंज पर टाटा पावर का शेयर 3.5 फीसदी और अडानी पावर 16.6 फीसदी की गिरावट पर बंद हुआ.

First published: 12 April 2017, 12:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी