Home » बिज़नेस » Sushil Modi ridiculous comment on Economic Slowdown in India
 

देश की आर्थिक सुस्ती पर सुशील मोदी का बेतुका बयान- सावन भादो में हर साल रहती है मंदी

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 September 2019, 9:27 IST

देश में एक तरफ तेजी से आर्थिक सुस्ती आई है और लोगों की लगातार नौकरी जा रही है. इस बीच बिहार के उपमुख्यमंत्री और बीजेपी के नेता सुशील कुमार मोदी ने विवादित बयान दिया है. सुशील मोदी ने आर्थिक मंदी का कारण चल रहे सीजन को बता दिया. उन्होंने कहा कि हर साल सावन भादो में मंदी आती है.

सुशील कुमार मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार ने अर्थव्यवस्था में तेजी लाने के लिए 32 सूत्री राहत पैकेज की घोषणा और 10 छोटे बैंकों के विलय की पहल से लेंडिंग कैपिसिटी बढ़ाने जैसे जो चौतरफा उपाय किये हैं, उनका असर अगली तिमाही में महसूस किया जाएगा. उन्होंने कहा कि वैसे तो हर साल सावन-भादो में मंदी रहती है, लेकिन इस बार...

सुशील मोदी ने आगे लिखा, "इस बार मंदी का शोर मचाकर कुछ लोग चुनावी पराजय की खीझ उतार रहे हैं." मोदी ने दावा किया कि बिहार में मंदी का खास असर नहीं है इसलिए यहां वाहनों की बिक्री नहीं घटी है. केंद्र सरकार तीसरा पैकेज जल्द ही घोषित करने वाली है.

बता दें कि देश में आर्थिक विकास की गति धीमी पड़ चुकी है. आकड़ों के अनुसार, पहली तिमाही यानि अप्रैल से जून में विकास दर 5.8 फीसदी से घटकर 5 फीसदी हो गई है. आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए सरकार भी तमाम तरह के प्रयास कर रही है. 

आर्थिक सुस्ती को देखते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी कई तरह के सुधार का काम कर रही हैं. वित्त मंत्री ने हाल ही में बैंकों के विलय की घोषणा की है. भारतीय रिजर्व बैंक से भी सरकार को 1 लाख 76 हजार करोड़ रुपए मिले हैं. इन पैसों का इस्तेमाल देश की आर्थिक स्थिति को सुधारने में किया जाएगा.

पूर्व PM मनमोहन सिंह का हमला- मोदी सरकार के चौतरफा कुप्रबंधन की वजह से आई मंदी

भारतीय सेना को इस साल मिली बड़ी कामयाबी, मात्र 8 महीने में मार गिराए 139 आतंकी

First published: 2 September 2019, 9:10 IST
 
अगली कहानी