Home » बिज़नेस » Swadeshi Jagran Manch said - 22 crore families will be affected by Wal-Mart-Flipkart Deal
 

स्वदेशी जागरण मंच बोला- Wal-Mart-Flipkart डील से 22 करोड़ परिवार होंगे प्रभावित

न्यूज एजेंसी | Updated on: 7 May 2018, 13:04 IST

स्वदेशी जागरण मंच ने अमेरिकी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट और ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट के सौदे का विरोध किया है. मंच के पदाधिकारियों ने रविवार को कहा कि वॉलमार्ट के रिटेल ई-कॉमर्स के क्षेत्र मे उतरने से देसी कारोबारियों व उद्योगों को भारी नुकसान होगा. स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय संयोजक अरुण ओझा ने कहा कि इस सौदे से छोटे कारोबारियों का कारोबार चौपट हो जाएगा और इससे देशभर में 20-22 करोड़ परिवार प्रभावित होंगे.

ओझा ने कहा, "हमारा विरोध देश में ई-कॉमर्स के क्षेत्र में विदेशी निवेश को लेकर है. वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट के सौदे से वॉलमार्ट ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों के जरिए देश के बाजार पर इस विदेशी कंपनी का प्रभुत्व कायम हो जाएगा और छोटे-छोटे कारोबारियों का कारोबार चौपट हो जाएगा.

मंच के राष्ट्रीय सह-संयोजक अश्विनी महाजन ने कहा, "ई-कॉमर्स के क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को अनुमति नहीं है. फ्लिपकार्ट और वॉलमार्ट का सौदा कानूनी रूप से अवैध होगा." उन्होंने कहा कि विदेशी निवेश इक्विटी के जरिए होना चाहिए. रिटेल कारोबार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए उचित नहीं है. लिहाजा, सरकार को इस पर रोक लगाने के लिए कदम उठाना चाहिए.

उन्होंने इस सौदे से होने वाले नुकसान का आकलन करते हुए कहा कि ई-कॉमर्स के क्षेत्र पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए कोई विनियामक नहीं है. ऐसे में वॉलमार्ट जैसे विदेशी कंपनियों के इसमें उतरने से घरेलू उद्योग और व्यापार तबाह हो जाएगा.

महाजन ने कहा, "वॉलमार्ट पहले से ही होलसेल और लॉजिस्टिक्स में अपना साम्राज्य बना लिया है. फ्लिपकार्ट के साथ इसके सौदे से रिटेल कारोबार में इसका प्रभुत्व कायम हो जाएगा." उन्होंने कहा कि वॉलमार्ट चीनी वस्तुओं का सबसे बड़ा विक्रेता है. इससे देसी बाजार में चीनी वस्तुओं की आमद बढ़ जाएगी जिससे देसी उद्योग प्रभावित होगा.

महाजन ने कहा," फ्लिपकार्ट-वॉलमार्ट मसले को लेकर विरोध के मद्देनजर हमारी बैठकें चल रही हैं. हम रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं. इसके बाद हम सरकार को अपनी चिंताओं से अवगत कराएंगे. उन्होंने बताया कि अगले एक-दो दिन में स्वेदशी जागरण मंच की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु को वे इस संबंध में पत्र लिखकर फ्लिपकार्ट-वॉलमार्ट सौदे से होने वाले नुकसान से उन्हें अवगत कराया जाएगा.

महाजन ने कहा, "हम केंद्रीय वाणिज्य मंत्री सुरेश प्रभु से मिलकर उन्हें अपनी चिंताओं से अवगत कराएंगे."सूत्रों के मुताबिक रिटेल कारोबार क्षेत्र की दिग्गज अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में 75 फीसदी शेयर खरीदने जा रही है। फ्लिपकार्ट की बोर्ड ने इस सौदे को अनुमति दे दी है.

ये भी पढ़ें : वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट की डील को रोकने के लिए अदालत जाने की तैयारी

First published: 7 May 2018, 13:04 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी