Home » बिज़नेस » Tata Motors shares plunge most in 26 years after record loss
 

टाटा को हुआ इतिहास का सबसे बड़ा घाटा, कंपनी ने इन कारणों को ठहराया जिम्मेदार

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 February 2019, 12:59 IST

देश की सबसे बड़ी ऑटो कंपनी टाटा मोटर्स ने तीसरी तिमाही में रिकॉर्ड घाटा दर्ज किया है. यह नुकसान तकरीबन 26,960.80 करोड़ रुपये का है. दिसंबर 2018 (Q3FY19) को समाप्त तीसरी तिमाही में कंपनी की कुल आय 77,582.71 करोड़ रुपये रही. टाटा मोटर्स ने कहा कि उसने 3.1 बिलियन पाउंड की परिसंपत्ति हानि के लिए एक बार का असाधारण गैर-नकद शुल्क लिया और समग्र प्रदर्शन जेएलआर के खाते में डाल दिया गया.

टाटा मोटर्स लिमिटेड के शेयरों ने शुक्रवार को 30% तक की गिरावट दर्ज की गई. यह फरवरी 1993 के बाद से सबसे बड़ी गिरावट है. कंपनी के स्टॉक 29.45% गिर गए. 3 फरवरी 1993 के बाद से इंट्राडे के आधार पर इसकी सबसे बड़ी गिरावट और 141.90 प्रति शेयर के निम्न स्तर को छू गया. पिछले एक साल में यह 51% गिरा है. सुबह 10 बजे नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में शेयर 155.15 रुपये पर कारोबार कर रहे थे.

 

टाटा मोटर्स ने JLR के लिए 3.10 बिलियन पाउंड के अपने सबसे बड़े राइट-ऑफ के कारण 26,992.54 करोड़ के समेकित नुकसान की सूचना दी. चीन में बिक्री को कम होने के लिए राइट-ऑफ को जिम्मेदार ठहराया गया है, पर्यावरण के अनुकूल हाइब्रिड और इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए एक बदलाव से जुड़ी प्रौद्योगिकी व्यवधान, और ऋण की बढ़ती लागत भी इसमें शामिल है. इससे पहले जून 2012 की तिमाही के लिए इंडियन ऑयल कॉर्प ने 22,450 करोड़ का घाटा दर्ज किया था.

टाटा मोटर्स का राजस्व दिसंबर तिमाही में 4.4% बढ़कर 77,582.71 करोड़ रुपये हो गया, जो एक साल पहले 74,337.70 करोड़ था. JLR की बिक्री जुलाई के बाद से हर महीने कम रही है. दिसंबर तिमाही में 6.4% वर्ष-दर-वर्ष गिरकर 144-600 वाहन रही. चीन में बिक्री 47% साल-दर-साल पिछली तिमाही में क्रमशः 21% और उत्तरी अमेरिका और यूके में 18.4% की वृद्धि हुई.

First published: 8 February 2019, 12:59 IST
 
अगली कहानी