Home » बिज़नेस » Tata Steel joins race for Usha Martin's Jamshedpur unit
 

बिकने की कगार पर आ चुकी इस स्टील कंपनी ने टाटा के नाम से रातोंरात कमाए करोड़ों

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 June 2018, 14:26 IST

बिकने की कतार में खड़ी कोलकाता की एक स्टील कंपनी के साथ कुछ ऐसा हुआ कि उसे इसका अंदाजा भी न होगा. इस कंपनी पर टाटा की नजर लगते ही उसे करोड़ों रुपयों का मुनाफा हो गया. इस कंपनी का नाम है उषा मार्टिन, जिसकी हालत पतली थी और इसे खरीदने वालों में कई बड़ी स्टील कंपनियां शामिल थी. जैसे ही टाटा ग्रुप का नाम इसके खरीदारों में आया कंपनी के स्टॉक्स में बड़ी तेजी आ गई.

दरअसल इस बात की चर्चा थी कि ऊषा मार्टिन को खरीदने की रेस में टाटा स्टील सबसे आगे है. खबरों के अनुसार टाटा स्टील ने इसके लिए 6,000 करोड़ रुपये की आक्रामक बोली लगायी है. इस इकाई लिए जेएसडब्ल्यू स्टील भी हाथ आजमा रही है.

जिसके बाद शुक्रवार शुक्रवार को कंपनी के स्टॉक में 20 फीसदी का अपर सर्किट लग गया. बीते 3 दिन में इस कंपनी में इन्वेस्टर्स की रकम लगभग 45 फीसदी बढ़ चुकी है. कंपनी का स्टॉक 20 फीसदी बढ़कर 28.90 रुपए के लेवल पर पहुंच गया.

हालांकि ट्रेडिंग के अंत में तेजी कुछ सीमित हो गई और स्टॉक 13 फीसदी बढ़कर 27.20 के स्तर पर क्लोज हुआ. बीते 5 जून को स्टॉक 19.95 रुपए पर बंद हुआ था और टाटा स्टाल द्वारा कंपनी में दिलचस्पी दिखाने की खबर के बाद स्टॉक में ट्रेडिंग वॉल्यूम 10 गुना बढ़ गया. इसके साथ ही बीएसई और एनएसई पर ऊषा मार्टिन के 92 लाख स्टॉक्स में ट्रेडिंग हो चुकी है.

दोनों एक्सचेंजेस से मिले आंकड़ों के मुताबिक लगभग 8 लाख स्टॉक्स के ऑर्डर पेंडिंग हैं. जानकारों के अनुसार टाटा स्टील ने कोलकाता बेस्ड कंपनी के लिए 6 हजार करोड़ रुपए की ऊंची बोली लगाई है. हालांकि बीएसई से मिले डाटा के मुताबिक ऊषा मार्टिन का मार्केट कैपिटलाइजेशन लगभग 880 करोड़ रुपए है. स्पेशियल्टी स्टील बनाने वाली ऊषा मार्टिन का जमशेदपुर में 10 लाख टन क्षमता का प्लांट है. ग्रुप पर कर्ज बढ़ने की वजह से ऊषा मार्टिन के प्रमोटर अपने स्टील बिजनेस को बेचने बारे में विचार कर रहे हैं.

जानकारों की मानें तो बीएसई ने 8 जून को ऊषा मार्टिन से कंपनी बेचने संबंध में जवाब मांगा था. लेकिन ऊषा मार्टिन ने बीएसई को अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है. ऊषा मार्टिन एक अग्रणी इंटीग्रेटेड स्पेशियल्टी स्टील कंपनी है और देश की बड़ी वायर रोप मैन्युफैक्चरर्स में से एक है. 

ये भी पढ़ें : अब इस संस्था की शक्तियों को भी छीनना चाहती है मोदी सरकार ?

First published: 9 June 2018, 14:26 IST
 
अगली कहानी