Home » बिज़नेस » Tehran warns : India will lose special privileges if it reduces Iranian crude oil imports
 

भारत ने हमसे तेल आयात कम किया तो बंद कर दी जाएंगी ये सुविधाएं : ईरान

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2018, 16:59 IST

एक वरिष्ठ ईरानी राजनयिक ने भारत को चेतावनी दी है कि यदि भारत ईरान से तेल का आयात कम कर सऊदी अरब, रूस और अमेरिका से आपूर्ति बढ़ाने का प्रयास करता है तो तेहरान नई दिल्ली को दिए जाने वाला विशेषाधिकार ख़त्म कर देगा.

अखिल भारतीय अल्पसंख्यक मोर्चा द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में ईरान के उप राजदूत और चार्ज डी अफेयर्स मसूद रेज़वानियन रहीघी ने कहा, "2012 और 2015 के बीच अमेरिकी प्रतिबंधों के पिछले दौर में ईरान ने भारत को तेल आपूर्ति की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी कोशिश की. अगर भारत ईरान की जगह सऊदी अरब, रूस, इराक, अमेरिका और अन्य देशों को अपनी 10% तेल मांग के लिए बदलता है तो उसे डॉलर से आयात करना पड़ सकता है."

गौरतलब है कि अमेरिका ने 4 नवंबर तक ईरान से कच्चे तेल के आयात को रोकने के लिए भारत समेत अपने सहयोगियों से कहा है. द हिंदू के अनुसार रहीघी ने चाबहार बंदरगाह के विस्तार में भारत द्वारा निवेश करने के अपने वादे को पूरा नहीं करने के लिए नई दिल्ली की आलोचना की.

यह बंदरगाह ईरान, अफगानिस्तान और मध्य एशियाई देशों के साथ व्यापार करने का भारत का प्रवेश द्वार है. ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी ने दिसंबर में बंदरगाह परियोजना के पहले चरण का उद्घाटन किया था. वरिष्ठ दूत ने कहा कि तेहरान भारत की ऊर्जा आवश्यकताओं को समझता है, ईरान अभी भी पेट्रोलियम, यूरिया और तरलीकृत प्राकृतिक गैस जैसी भारतीय आवश्यकताओं के लिए एक खुला बाजार है.

ये भी पढ़ें : फ्रांस को पछाड़कर भारत बना दुनिया की छटी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था : वर्ल्ड बैंक

First published: 11 July 2018, 16:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी