Home » बिज़नेस » Telecom War Will Start 36,500 Crore Mukesh Ambani's Reliance Jio vs Sunil Mittal's Bharti Airtel
 

अंबानी Vs भारती: अब शुरू होगा Jio- Airtel के बीच 36,500 करोड़ टेलिकॉम वॉर

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 April 2018, 17:49 IST

टेलिकॉम इंडस्ट्री के दो दिग्गज मुकेश अंबानी और सुनील भारती मित्तल के बीच प्रतिस्पर्धा लगातार बढ़ती जा रही है. अब दोनों ने बॉन्‍ड बिक्री के जरिए 36500 करोड़ रुपये (5.6 बिलियन डॉलर) जुटाने का लक्ष्य रखा है. ताकि भविष्य में एक दूसरे को टक्कर दी जा सके.

सुनील भारती मित्तल की एयरटेल ने पिछले महीने 3,000 करोड़ रुपये के अपने पहले बांड को बेचा, जिससे उसे 16,500 करोड़ रुपये जुटाने की मंजूरी मिली. इसके एक दिन बाद रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड ने 20,000 करोड़ रुपये के नोट्स को बेचने की घोषणा की. 

यह कुल जुटाई जाने वाली राशि भारत की शीर्ष चार दूरसंचार कंपनियों के कुल बकाया बांडों का 78 प्रतिशत का हिस्सा है. इससे यह संकेत भी निकलते हैं कि एयरटेल और जियो में अब जोरदार मुकाबला होगा. साथ ही ये अगले पांच वर्षों में करीब 320 अरब रुपए के कर्ज का प्रबंधन करने में सक्षम होगा. जानकारों का मानना है कि चार तक टेरिफ की प्रतिस्पर्धा के बाद भारत की दूरसंचार लड़ाई अपने अंतिम चरण में जा सकती है.

भारती एयरटेल का कहना है कि इस धन का उपयोग खजाने की गतिविधियों के लिए किया जाएगा, जिसमें स्पेक्ट्रम की बकाया राशि का भुगतान करना भी शामिल है. हालांकि जियो ने अभी अपने धन इस्तेमाल का खुलासा नहीं किया है. अंतिम उपयोग निर्दिष्ट नहीं किया है. एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स में कॉरपोरेट रेटिंग के वरिष्ठ निदेशक मेहुल सुकावाला का कहना है कि जियो को मार्केट कब्ज़ा करने के लिए आक्रामक तरीके से खर्च करने की जरूरत है, जबकि भारती खुद को आगे रखने के लिए ज्यादा निवेश कर रही है.

गौरतलब है कि टेलीकॉम मार्केट में जियो के आने के बाद टेरिफ वॉर लगातार चलता आ रहा है. कई बार ये कंपनियां एक दूसरे के खिलाफ ट्राई का दरवाजा भी खटखटा चुकी हैं. जियो पर कई बार आरोप लगाए गए कि उसके आने के बाद टेलिकॉम इंडस्ट्री खतरे में पड़ गयी हैं. कंपनियों को मर्जर जैसे उपाय करने पड़ रहे हैं.

ये भी पढ़ें : मोदी जी... नोटबंदी के बाद छपे नए नोटों के नकली संस्करण कैसे आ गए ?

First published: 4 April 2018, 17:48 IST
 
अगली कहानी