Home » बिज़नेस » Temples will not create jobs for youth, science will, says Sam Pitroda
 

मंदिर युवाओं को नौकरियां नहीं देगा, नेता उन्हें को गुमराह कर रहे हैं: सैम पित्रोदा

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 July 2018, 12:50 IST

दूरसंचार आविष्कारक और उद्यमी सैम पित्रोदा ने रविवार को कहा कि मंदिर नौकरियां नहीं देगा, केवल विज्ञान ही भविष्य का निर्माण करेगा. द इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार गुजरात की राजधानी गांधीनगर में कर्णवती विश्वविद्यालय में युवा संसद के दौरान रोजगार और उद्यमिता के एक सत्र में पित्रोदा ने कहा, "मुझे चिंता है कि इस देश में बहस मंदिरों, धर्म और जाति पर चल रही है''.

उन्होंने कहा ''जब भी आप रोज़गार की बात करते हैं, वहां हमेशा राजनीतिक हस्तक्षेप होता है''. पित्रोदा ने कहा ''मंदिर युवाओं के लिए नौकरियां नहीं देने जा रहा है. हम आंकड़ों के बारे में बात करते हैं, हम अपने युवाओं को गुमराह करते हैं, हम उन्हें गलत रास्ते के लिए गुमराह करते हैं, हम उनसे झूठ बोलते हैं''.

उन्होंने कहा ''मैं कहता हूं कि ऐसे लोगों के तीन सेट हैं जिन्हें आपको नहीं सुनना चाहिए - आपके माता-पिता, शिक्षक और तीसरे, राजनेता. ऐसा इसलिए है क्योंकि उन सभी को तकनीकी रूप से बदलती दुनिया का सीमित ज्ञान है."

पित्रोदा ने कहा सार्वजनिक तौर पर में विज्ञान पर बहुत कम बातचीत होती है. उन्होंने कहा कि बहुत से नेताओं ने भाषण देने के अलावा "अपने जीवन में ज्यादा हासिल नहीं किया". "वे हमारे युवाओं को मार्गदर्शन देने के लिए योग्य नहीं हैं." पित्रोदा ने कहा, "कल की नौकरियां छोटे क्षेत्रों में उद्यमिता के रूप में आ जाएंगी." "एसएमई [छोटे और मध्यम आकार के उद्यम] अधिक नौकरियां पैदा करेंगे, जो बेहतर ऊर्जा, आधारभूत संरचना पर ध्यान केंद्रित करेंगे."

ये भी पढ़ें : वेदांता ने तूतीकोरिन प्लांट के कर्मचारियों से कहा- सोमवार से काम पर आएं

First published: 16 July 2018, 12:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी