Home » बिज़नेस » Texas jury ordered Facebook to pay $500m in Oculus Rift theft lawsuit
 

फेसबुक पर 33 अरब रुपये का जुर्माना

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 February 2017, 14:36 IST

दुनिया के सबसे बड़े सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर अदालत ने 500 अमेरिकी डॉलर (करीब 33 अरब रुपये) का जुर्माना लगाया है. फेसबुक पर अदालत में मुकदमा चला था जिसमें दावा किया गया था कि उनका वर्चुअल रिएलिटी हेडसेट ऑक्यूलस रिफ्ट चोरी की तकनीक पर आधारित है.

अमेरिका स्थित टेक्सास अदालत ने फेसबुक को यह रकम वीडियो गेम पब्लिशर ज़ेनीमैक्स मीडिया इंक को चुकाने का आदेश दिया है. अदालत ने यह पाया कि ऑक्यूलस के एग्जीक्यूटिव्स ने ऑक्यूलस हेडसेट बनाने के शुरुआती दिनों में जेनीमैक्स के साथ नॉन-डिसक्लोजर एग्रीमेंट का उल्लंघन किया था.

हालांकि अदालत ने यह भी फैसला किया कि ऑक्यूलस ट्रेड सीक्रेट्स के दुरुपयोग का दोषी नहीं हैं.

पॉलीगन के मुताबिक अदालत द्वारा फेसबुक पर लगाए गए 500 मिलियन अमेरिकी डॉलर के जुर्माने में 200 मिलियन डॉलर नॉन-डिसक्लोजर एग्रीमेंट के उल्लंघन के लिए, 50 मिलियन कॉपीराइट उल्लंघन के लिए, 50 मिलियन ऑक्यूलस और इसके सह-संस्थापक पैल्मर लकी दोनों पर गलत पदनाम और पूर्व सीईओ ब्रेंडैन पर 150 मिलियन झूठे पदनाम के लिए शामिल है.

ऑक्यूलस के एक प्रवक्ता ने कहा, "इस मामले का प्रमुख मुद्दा यह था कि क्या ऑक्युलस ने जेनीमैक्स के ट्रेड-सीक्रेट चुराए और अदालत ने इसका फैसला हमारे पक्ष में सुनाया."

"हम आज सुनाए गए इस फैसले की कुछ अन्य बातों से निराश जरूर हैं लेकिन हम अडिग हैं. ऑक्यूलस प्रोडक्ट्स को ऑक्यूलस टेक्नोलॉजी के साथ बनाया जा रहा है."

उन्होंने आगे कहा, "वर्चुअल रिएलिटी (वीआर) की लंबे वक्त तक सफलता के लिए हमारा इरादा अभी भी वही है और पूरी टीम पहले दिन से लेकर अब तक किए गए काम को जारी रखेगी- यह काम है ऐसी वीआर टेक्नोलॉजी डेवलप करना जिससे लोगों की एक दूसरे से बातचीत और परस्पर संवाद के तरीके बदले जा सकें."

गौरतलब है कि ऑक्यूलस रिफ्ट वीआर हेडसेट को हाल ही में ब्रिटेन में पेश किया गया था.

First published: 2 February 2017, 14:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी