Home » बिज़नेस » The study claiming 7 million jobs was done on the instructions of the PMO
 

खुलासा : 70 लाख नौकरियों का दावा करने वाला अध्ययन PMO के निर्देश पर हुआ था

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 February 2018, 18:01 IST

इस साल एक फ़रवरी को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बजट पेश करते वक़्त रोजगार को जिक्र करते 70 लाख नौकरियां मिलने का दावा किया था. बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के अनुसार भारत में 2017-18 में 70 लाख लोगों को पेरोल पर नौकरियां देने का दावा करने वाला 'स्वतंत्र ' अध्ययन प्रधानमंत्री कार्यालय की पहल पर कराया गया था.

रिपोर्ट के अनुसार पीएमओ ने पिछले अक्टूबर में नीति आयोग से कहा था कि 'वह ऐसे त्वरित सूचकांक उपलब्ध कराए, जिनसे रोजगार के आंकड़ों के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रुझान पता चलते हों.

 

एक रिपोर्ट के मुताबिक पीएमओ ने यह काम नीति आयोग को दिया था जिसने इसे आईआईएम के प्रोफेसर पुलक घोष और एसबीआई के मुख्य अर्थशास्त्री सौम्य कांत घोष से करवाया.

इन आकंड़ों के सार्वजनिक होने के चार दिन बाद पर 4 दिन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में कहा कि ईपीएफओ के आंकड़ों के आधार पर एक स्वतंत्र अध्ययन में 7 करोड़ लोगों को नौकरियां मिलने की बात सामने आई है.

ये भी पढ़ें : DRI की नजर में 2014 से थे मोदी, फिर भी बेपरवाह ऐसे फैलाते जा रहे थे अपना कारोबार

First published: 16 February 2018, 18:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी