Home » बिज़नेस » To save the unbearable banks from NPA, the government again raised huge amount, public sector banks, bank recapitalization
 

एनपीए से बेहाल बैंकों को बचाने के लिए सरकार ने फिर झोंकी बड़ी रकम

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 January 2018, 17:47 IST

बैंकों के लगाकर बढ़ते एनपीए को देखते हुए सरकार ने पीएसयू बैंकों को 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की पूंजी देने का ऐलान किया है. इसके तहत एसबीआई में 8800 करोड़ रुपये, पीएनबी में 5473 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ बड़ौदा में 5375 करोड़ रुपये, केनरा बैंक में 4865 करोड़ रुपये और यूनियन बैंक में 4524 करोड़ रुपये की पूंजी डाली जाएगी.

जबकि सिंडिकेट बैंक में 2839 करोड़ रुपये, आंध्रा बैंक में 1890 करोड़ रुपये, पंजाब एंड सिंध बैंक में 785 करोड़ रुपये, आईडीबीआई बैंक में 10610 करोड़ रुपये, बैंक ऑफ इंडिया में 9232 करोड़ रुपये, यूको बैंक में 6507 करोड़ रुपये, सेंट्रल बैंक में 5158 करोड़ रुपये, आईओबी में 4694 करोड़ रुपये, ओबीसी में 3571 करोड़ रुपये, देना बैंक में 3045 करोड़ रुपये डाले जायेंगे.

 

इसी तरह बैंक ऑफ महाराष्ट्र में 3173 करोड़ रुपये, यूनाइटेड बैंक में 2634 करोड़ रुपये, कॉरपोरेशन बैंक में 2187 करोड़ रुपये, इलाहाबाद बैंक में 1500 करोड़ रुपये और विजया बैंक को 1277 करोड़ रुपये दिए जायेंगे.

इस दौरान वित्त मंत्री अरुण जेतली ने कहा कि बैंकों की समस्या को खत्म करना हमारा मकसद है. वित्त मंत्रालय एक ऐसा मेकनिजम बनाने की कोशिश कर रहा है जिसमें पहले से आ रही दिक्कतों का समाधान हो सके. बैंकिंग सचिव ने कहा कि बैंकों में सरकार का पैसा पूरी तरह सुरक्षित है. इससे पहले भी सरकार ने बैंकों को 2 लाख करोड़ का कैपिटल दिया था.

First published: 24 January 2018, 17:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी