Home » बिज़नेस » India impose 120% import duty on us almonds, imposed a 120 per cent duty on the import of walnuts
 

ट्रेड वॉर: क्यों इस बार त्यौहारों पर बादाम और अखरोट नहीं दे पाएंगे आपको वो स्वाद ?

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 June 2018, 12:44 IST

भारत अमेरिकी बादाम का सबसे बड़ा खरीदार है लेकिन भारत ने अब इस बादाम पर 20 फीसदी की इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी है. वाशिंगटन द्वारा नए टैरिफ में छूट देने से इनकार करने के बाद अमेरिका के खिलाफ भारत ने अखरोट के अलावा बादाम के आयात पर भी 120 प्रतिशत ड्यूटी लगा दी है. 4 अगस्त से लागू होने वाले इस टैरिफ में कृषि, इस्पात और लौह उत्पादों को भी शामिल किया गया है.

भारत के वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि भारत ने 2017 में सभी अमेरिकी बादाम शिपमेंट के आधे से अधिक खरीदे थे. मौजूदा 100 रुपये की बजाय एक किलोग्राम गोले के बादाम 120 रुपये (1.76 डॉलर) का कस्टम ड्यूटी लगाई जाएगी. शरद ऋतु के दौरान देश में त्योहारों का मौसम होता है और अमेरिका के अधिकांश बादाम भारत भेज दिए जाते हैं.

 

पिछले महीने नई दिल्ली ने नए अमेरिकी टैरिफ से छूट मांगी थी लेकिन स्टील और एल्यूमीनियम पर ड्यूटी कम करने के अनुरोध को अमेरिका ने नजरअंदाज कर दिया था. जिसके जवाब में भारत ने विश्व व्यापार संगठन में अमेरिका के खिलाफ शिकायत की थी. राष्ट्रपति ट्रम्प ने पदभार संभालने के बाद भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच व्यापार दूरियां आयी हैं. 2016 में द्विपक्षीय व्यापार 115 अरब डॉलर हो गया, लेकिन ट्रम्प प्रशासन भारत के साथ 31 अरब डॉलर का घाटा कम करना चाहता है.

इस साल की शुरुआत में ट्रम्प ने हार्ले-डेविडसन मोटरबाइक पर आयात शुल्क कम करने के लिए भारत से कहा था. अमेरिका के लगातार दोहराने पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मोटरसाइकिल पर आयात शुल्क में 75 फीसदी से 50 फीसदी कर दिया था लेकिन ट्रम्प इससे संतुष्ट नहीं थे. बुधवार को जारी टैरिफ दरों में वाणिज्य मंत्रालय ने बादाम, सेब, चम्मच, मसूर, अखरोट और आर्टेमिया की कुछ किस्मों को शामिल किया है.

ये भी पढ़ें : मैक्सिको बॉर्डर से अमेरिका में घुस रहे 42 भारतीय हिरासत में, ज्यादातर सिख समुदाय से

First published: 22 June 2018, 12:44 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी