Home » बिज़नेस » Walmart- Amazon deal : traders plan to fight Walmart-Flipkart merger
 

वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट की डील को रोकने के लिए अदालत जाने की तैयारी

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 May 2018, 14:02 IST

दुनिया की सबसे बड़ी खुदरा श्रृंखला वॉलमार्ट भारत की ई-कॉमर्स प्रमुख फ्लिपकार्ट पर कब्ज़ा करने के लिए कुछ ही कदम दूर है. लेकिन कई घरेलू विक्रेता संघ और खुदरा विक्रेता इसके विरोध में खुलकर सामने आ गए हैं. ये लोग सिर्फ वित्त और वाणिज्य मंत्रालयों के दरवाजे नहीं खटखटा रहे बल्कि ये भारत के प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के पास जाने की भी योजना बना रहे हैं

इस डील को रोकने के पीछे इन लोगों का तर्क है कि वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट के बीच प्रस्तावित सौदा विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) मानदंडों का उल्लंघन है. इससे बाजार प्रतिस्पर्धा को भी नुकसान पहुंचेगा.

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के अनुसार ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) के कन्फेडरेशन के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि "यह वास्तव में दुर्भाग्यपूर्ण है कि स्पष्ट एफडीआई नीति होने के बाद भी, बहुराष्ट्रीय कंपनियों को इससे बचने का एक रास्ता मिल रहा है. भले ही यह खुदरा या ई-कॉमर्स में हो''

उन्होंने कहा "एफएमआई के माध्यम से खुदरा क्षेत्र में भारत में प्रवेश करने में विफल होने के बाद वॉलमार्ट ने ई-कॉमर्स मार्ग चुना है, जो व्यापार समुदाय के लिए नुकसानदायक ''है. अगर सरकार और सीसीआई मदद करने में सक्षम नहीं हैं, तो खंडेलवाल ने कहा वह अदालत का रास्ता खटखटाएंगे.

ये भी पढ़ें : Jio जल्द शुरु करने जा रही है 'फाइबर टू द होम' सर्विस, घर के हर कोने में मिलेगी कनेक्टिविटी

First published: 6 May 2018, 14:02 IST
 
अगली कहानी