Home » बिज़नेस » Walmart to invest Rs 180 crore to improve farmers’ livelihood
 

भारत में किसानों पर 180 करोड़ खर्च करने जा रही है ये अमेरिकी कंपनी

सुनील रावत | Updated on: 27 September 2018, 15:42 IST

भारत में किसानों की आजीविका के लिए अपनी पहल के तहत वॉलमार्ट फाउंडेशन भारत में अगले पांच वर्षों में 180 करोड़ रुपये कानिवेश करेगा. वॉलमार्ट इंटरनेशनल के सीईओ जूडिथ मैककेना ने कहा, "वॉलमार्ट इंडिया सप्लाई चेन से अलग काम करने वाला वॉलमार्ट फाउंडेशन अगले पांच सालों में किसानों की आजीविका में सुधार के लिए 180 करोड़ रुपये (25 मिलियन डॉलर) का निवेश करेगा." वह यूपी की राजधानी के बाहरी इलाके में कासिमपुर गांव के स्थानीय किसानों के साथ एक बैठक में बोल रही थीं.

वॉलमार्ट इंडिया के सीईओ कृष्णा अय्यर, वॉलमार्ट इंडिया के मुख्य कॉर्पोरेट मामलों के अधिकारी रजनीश कुमार और फ्लिपकार्ट समूह के सीईओ बिन्नी बंसल मैककेना के साथ मौजूद थे. इस दौरान उन्होंने एक सब्जी फार्म का दौरा किया और वहां पर खेती में रुचि दिखाई. यहां ग्लोबल पब्लिक पालिसी और सरकारी मामलों के वॉलमार्ट के उपाध्यक्ष पॉल डाइक भी मौजूद थे.

उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को राज्य में वॉलमार्ट द्वारा निवेश से संबंधित विभिन्न मामलों पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ चर्चा की. मैककेना ने गुरुवार को कहा कि वॉलमार्ट इंडिया किसानों से अपने प्रत्यक्ष सोर्सिंग को उसी अवधि में अपने 'कैश एंड कैरी' स्टोर्स में बेचे जाने वाले 25% उत्पादन में वृद्धि करेगा ताकि उन्हें अधिक आय सुनिश्चित हो सके और बिचौलियों की भूमिका में कटौती की जा सके. इसके अलावा इससे उत्पादकों के लिए परिवहन लागत में तेजी से बाजार पहुंच और कमी आएगी.

वॉलमार्ट उन सभी राज्यों में स्थानीय किसान निर्माता संगठन से भी स्रोत मांगना मांगेगा जहां स्टोर हैं. देश में छोटे-छोटे किसानों के प्रति अपनी वचनबद्धता को गहरा करते हुए उन्होंने कहा कि ये किसान इस क्षेत्र में नियोजित कुल कर्मचारियों के 50 प्रतिशत से अधिक के साथ भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं.

वॉलमार्ट फाउंडेशन के नए फंडिंग ने ग्रामीण आय बढ़ाने में मदद के लिए मजबूत किसान उत्पादक संगठनों को विकसित और स्केल करने के अपने सतत प्रयासों का विस्तार किया है. नए फंडों का उपयोग किसान संगठनों को टिकाऊ कृषि पद्धतियों के ज्ञान को विकसित करने, व्यापार सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने, प्राथमिक कृषि वस्तुओं को मूल्य जोड़ने और वित्त और बाजारों तक पहुंच में सुधार के लिए किया जाएगा.

ये भी पढ़ें : विदेशी कंपनी के पास है आधार का सोर्स कोड, लोगों की निजी जानकारी तक है पहुंच

First published: 27 September 2018, 15:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी