Home » बिज़नेस » What is the answer to employment for 13 crore new voters in 2019 with the Modi government
 

2019 में 13 करोड़ नए वोटर्स के लिए रोजगार पर क्या जवाब है मोदी सरकार के पास

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 March 2018, 14:25 IST

आगामी लोकसभा चुनाव 2019 करीब हैं ऐसे में मोदी सरकार का 2014 में किया गया रोजगार देने का वादा उसपर भारी पड़ने जा रहा है. साल 2014 के चुनावों में बीजेपी को वोट देने वालों बड़ी तादात में युवा थे. 2014 में 15 करोड़ युवाओ ने पहली बार वोट दिया, जबकि आने वाले 2019 में ऐसे युवाओं की संख्या 13 करोड़ के पार है.

स्टेट बैंक के 'इको फ़्लैश' के सर्वेक्षण में कहा गया है कि अगस्त 2016 में बेरोज़गारी की दर 9.5 प्रतिशत थी, जो फरवरी 2017 में घटकर 4.8 प्रतिशत हो गई. भारत सरकार के ही श्रम मंत्रालय के आंकड़ों के हिसाब से नए रोज़गार पैदा होने में 84 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है.

 

फोटो : फेसबुक

देहरादून में बेरोजगार युवा सड़क पर 

बीते सोमवार को उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में बेरोजगारी, भर्तियों में गड़बड़ी और नई सरकारी नौकरी को लेकर प्रदेशभर के बेरोजगार युवा सडकों पर दिखे. राज्यभर के सैकड़ों बेरोजगार युवाओं ने राजधानी दून में जनाक्रोश रैली निकाली. बेरोजगारों को पुलिस ने आयकर मुख्यालय के पास बैरिकेडिंग लगाकर रोक दिया.

बेरोजगार संघ की अगुवाई में चल रहे इस आंदोलन में शामिल युवाओं का कहना है कि रोजगार के मुद्दे पर सरकार का रवैया साफ नहीं है, जो भर्तियां हो रही हैं, उनमें तमाम घपले सामने आ रहे हैं. सरकारी आंकड़ों पर गौर करें तो पांच साल पहले 5 लाख 65 हजार बेरोजगार युवा ही पंजीकृत थे लेकिन पिछले 2015-2016 में ही 2 लाख तीन हजार बेरोजगार युवाओं ने पंजीकरण कराया है.

बेरोजगार युवाओं की संख्या
अल्मोड़ा- 69359
पिथौरागढ़- 69820
उधम सिंह नगर-101371
नैनीताल- 98833
देहरादून- 181958
हरिद्वार- 101495
चमोली- 41142
रुद्रप्रयाग- 27316
बागेश्वर- 31133
चम्पावत- 23152
टिहरी- 70406
उत्तरकाशी- 40469
पौड़ी- 63607

First published: 27 March 2018, 14:25 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी