Home » बिज़नेस » Why bitcoin becoming a threat for Income Tax, department gives notice to thousands of people
 

बिटकॉइन क्यों बनता जा रहा है खतरा, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने दिया हजारों लोगों को नोटिस

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 January 2018, 16:42 IST

इन दिनों पूरी दुनिया में बिटकॉइन की धूम मची हुई है. भारत से भी इसमें बड़ी संख्या में लोग  इन्वेस्ट कर रहे हैं. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का मानना है कि पिछले 17 महीनों में क्रिप्‍टोकरेंसीज से करीब 25 हजार करोड़ रुपए (3.5 अरब डॉलर) की डील्स की गई हैं. अब इन्वेस्ट करने वाले लोगों को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स नोटिस भेजे हैं.

न्‍यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, मुंबई, दिल्‍ली, बेंगलुरू और पुणे जैसे शहरों और देश के नौ एक्‍सचेंज से मिले डाटा से खुलासा हुआ है कि बिटकॉइन और क्रिप्टोकरेंसीज में सबसे ज्‍यादा इन्वेस्टमेंट टेक-सेवी युवा, रियल एस्‍टेट प्‍लेयर्स और ज्‍वैलर्स कर रहे हैं.

 

बिटकॉइन में इतना बड़ा इन्वेस्टमेंट से दुनिया के कई देशों के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है. इस मुद्दे पर मार्च में अर्जेंटीना में होने वाली G-20 समिट में भी चर्चा हो सकती है. भारत में सरकार इसको लेकर पहले ही चेतावनी दे चुकी है लेकिन इसके बाद भी हर माह करीब 2 लाख क्रिप्‍टोकरेंसी इन्वेस्टर्स बढ़ रहे हैं.

कर्नाटक इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट के इन्वेस्‍टिगेशन डायरेक्टर बीआर बालाकृष्‍णन ने रॉयटर्स को बताया कि ''हम ज्‍यादा आक्रामक होकर काम नहीं कर रहे हैं. हमें इसके लीगल टेंडर बनाए जाने पर सरकार के फैसले का इंतजार है.''

बिटकॉइन की कीमतों में आया जबरदस्त उछाल 

बिटकॉइन एक साल में 1700% तक महंगी हुई है. पिछले साल बिटकॉइन की कीमत 20 हजार डॉलर तक पहुंच गई थी. इस तेजी की वजह से ही ज्यादातर इन्वेस्टर्स इसमें इन्वेस्ट करने की दिलचस्पी दिखा रहे हैं.

क्या है बिटकॉइन

बिटकॉइन एक डिजिटल मुद्रा है जिसका अर्थ है की यह किसी केंद्रीय बैंक द्वारा नहीं संचालित होती. इसकी शुरुआत ३ जनवरी 2009 को हुई थी. यह विश्व का प्रथम पूर्णतया खुला भुगतान तंत्र है. दुनिया भर में 9 करोड़ से अधिक बिटकॉइन हैं. बिटकॉइन एक वर्चुअल यानी आभासी मुद्रा है, आभासी मतलब कि अन्य मुद्रा की तरह इसका कोई भौतिक स्वरुप नहीं है.

First published: 20 January 2018, 16:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी