Home » बिज़नेस » Wipro chairman Azim Premji will take retirement, Rishad will lead Wipro to greater heights says to staff
 

'दानवीर कर्ण' से कम नहीं Wipro के मालिक अजीम प्रेमजी, अब हो रहें हैं रिटायर, 52 हजार करोड़ किया था दान

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 June 2019, 14:12 IST

दुनिया भर में आईटी सेक्टर को नई उचाईयों पर ले जाने वाले दिग्गज कारोबारी और Wipro के मालिक अजीम प्रेमजी ने अपने रिटायरमेंट की घोषणा कर दी है. अजीज प्रेमजी 30 जुलाई को विप्रो के कार्यकारी चेयरमैन पद से रिटायर हो रहे हैं. उन्होंने कहा कंपनी की अगुवाई करना उनके जीवन का सबसे बड़ा सौभाग्य रहा. 53 सालों तक कंपनी की बागडोर संभालने के बाद अब वे अपने बेटे ''रिशद प्रेमजी'' को कंपनी की कमान सौंपेंगे.

अजीम प्रेमजी साल 2024 तक गैर-कार्यकारी निदेशक बने रहेंगे और कंपनी के फाउंडर चेयरमैन भी रहेंगे. रिशद फ़िलहाल विप्रो के मुख्य रणनीति अधिकारी (चीफ स्ट्रेटेजिक ऑफिसर) और निदेशक मंडल (बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स) के सदस्य हैं.

दानवीर हैं अजीम प्रेमजी

विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी को अगर कॉर्पोरेट जगत का ''दानवीर कर्ण'' कहा जाए तो गलत नहीं होगा. वह दुनिया के चंद बड़े दानवीरों में शामिल हैं जिन्होनें अपने मेहनत की कमाई समाज के कल्याण में दान कर दिए. इस साल भी अजीम प्रेमजी ने विप्रो लिमिटेड के 34 प्रतिशत शेयर दान कर दिए हैं. इन शेयर का बाजार मूल्य 52,750 करोड़ रुपये है. अजीम प्रेमजी के हाथों में कंपनी की लगभग 53 साल तक कमान रही और उनके कर्मचारी हमेशा उनके लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं.

फोर्ब्स की सूची में अजीम प्रेमजी को विश्व भर में 38वें स्थान पर रखा है. उनकी कुल नेटवर्थ (व्यक्तिगत संपत्ति) 510 करोड़ रुपये है. अजीम प्रेमजी के परिवार में पत्नी यास्मिन और दो बच्चे रिशद और तारिक हैं.

रिशद संभालेंगे 1.76 लाख करोड़ रुपये की विरासत

अजीम प्रेमजी के बेटे रिशद अब 1.76 लाख करोड़ रुपये की मार्केट कैप की विप्रो को संभालेंगे. विप्रो भारत की तीसरी बड़ी आईटी कंपनी है. विप्रो के पूरी दुनिया में 1 लाख 30 हजार कर्मचारी हैं और इसकी 54 देशों में इसके ब्रांच हैं. विप्रो का हेड-क्वार्टर बेंगलुरु में स्थित है.

रिशद की IT इंडस्ट्री में अपनी अलग पहचान है वे सिर्फ अपने पिता अजीम प्रेमजी की वजह से नहीं जाने जाते हैं. साल 2007 में रिशद विप्रो से जुड़े थे. यहां रिशद ने इन्‍वेस्‍टर रिलेशन और कॉरपोरेट अफेयर्स से जुड़े काम शुरू किया. साल 2014 में वर्ल्‍ड इकोनॉमिक फोरम ने रिशद को यंग ग्‍लोबल लीडर के तौर पर सम्‍मानित किया था. रिशद आईटी कंपनियों के संगठन नैस्कॉम (NASSCOM) के चेयरमैन भी रहे हैं.

कर्मचारियों को संदेश

अजीम प्रेमजी ने कर्मचारियों को भेजे अपने संदेश में यकीन जताया कि विप्रो नई ऊंचाइयों को छूने के लिए अपने आप में बदलाव करना जारी रखेगी. उन्होंने कहा कि मुझे भरोसा है कि विप्रो का भविष्य पहले से ज्यादा उज्जवल होगा. प्रेमजी ने कहा कि रिशद ने सोच और अनुभव के नए तरीके पेश किए हैं. रिशद विप्रो को नई बुलंदियों तक लेकर जाएंगे.

First published: 7 June 2019, 14:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी