Home » बिज़नेस » Women bought 32% of life insurance policies in 2017-18, shows Irdai data
 

2017-18 में 32 फीसदी महिलाओं ने खरीदा जीवन बीमा, वर्कफोर्स में आयी गिरावट : IRDAI

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 January 2019, 12:45 IST

 

अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के आंकड़ों की माने तो पिछले एक दशक में कार्यबल (workforce) में महिलाओं की समग्र भागीदारी में गिरावट आई है. जबकि जीवन बीमा पॉलिसियों के आंकड़े बताते हैं कि औपचारिक क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी वास्तव में 2017-18 तक अधिक हो सकती है.

इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) की नवीनतम वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार महिलाओं ने 2017-18 में भारत में बेची गई कुल व्यक्तिगत जीवन बीमा पॉलिसियों का 32% हिस्सा खरीदा. दूसरी ओर ILO के आंकड़ों से पता चलता है कि भारतीय कर्मचारियों की संख्या में महिलाओं की भागीदारी 2017 में 27.21% घटकर 2005 में 36.78% हो गई.

 

जीवन बीमा में अधिकांश निवेश उन लोगों के माध्यम से होता है जो औपचारिक क्षेत्र में कार्यरत हैं.
महिलाओं द्वारा अधिक बीमा खरीदने का एक और कारण यह है कि अक्सर परिवार में काम करने वाले पुरुष महिलाओं सहित गैर-कामकाजी सदस्यों के नाम पर निवेश से जुड़ी बीमा पॉलिसी खरीदते हैं. सुर्जन फाइनेंशियल एडवाइजर्स एलएलपी की संस्थापक दीपाली सेन ने माना कि यह एक आम बात है.

2017-18 में जारी व्यक्तिगत जीवन बीमा पॉलिसियों की कुल संख्या 28.2 मिलियन थी, जिनमें से लगभग 9 मिलियन महिलाओं द्वारा और 19.1 मिलियन पुरुषों द्वारा खरीदे गए थे. पॉलिसियों में टर्म इंश्योरेंस, ट्रेडिशनल प्लान के साथ-साथ यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान या यूलिप जैसे इंश्योरेंस प्रोडक्ट शामिल थे.

विशाखा के अनुसार स्पष्ट आंकड़ों का अभाव होने के बावजूद, अधिक महिलाएं, पुरुषों की तुलना में टर्म प्लान के बजाय जीवन बीमा स्थिर से बचत और निवेश उत्पादों के प्रति झुकाव रखती हैं.

First published: 23 January 2019, 12:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी