Home » बिज़नेस » Year Ender 2019: How was the year for Mukesh Ambani, Bezos, Jack Ma's condition
 

Year Ender 2019: मुकेश अंबानी के लिए कैसा रहा साल, बेज़ोस, जैक मा का ये रहा हाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 December 2019, 14:03 IST

साल 2019 आर्थिक दृष्टि से भारत के लिए अच्छा नहीं रहा क्योंकि ऑटो, टेलिकॉम जैसे रोजगार देने वाले सेक्टर मंदी की चपेट में रहे. हालांकि अमीरों के लिहाज से यह साल महत्वपूर्ण रहा. एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी के लिए यह यह साल अच्छा रहा. ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार, भारतीय टाइकून ने 23 दिसंबर तक अपनी संपत्ति में लगभग 17 बिलियन डॉलर जोड़े, जो कि एशिया में सबसे अधिक है. इसकी तुलना में अलीबाबा ग्रुप के संस्थापक जैक मा की कुल संपत्ति 11.3 बिलियन डॉलर हो गई, जबकि अमेज़न के जेफ बेजोस ने इस साल 13.2 बिलियन डॉलर खो दिए.

साल 2019 में मुकेश अंबानी के की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की शेयरों में 40% की वृद्धि देखी गई. रिलायंस समूह है अपने मुख्य तेल शोधन और पेट्रोकेमिकल व्यवसायों की तुलना में उपभोक्ता सर्विस की ओर अधिक ध्यान दे रहा है. निवेशक रिलायंस पर पैसा ज्यादा लगा रहे हैं. इसी साल मुकेश अंबानी ने अमेरिकी ई कॉमर्स Amazon.com इंक को चुनौती देने के लिए एक स्थानीय ई-कॉमर्स कपनी का लक्ष्य रखा है.

मुकेश अंबानी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज अब केवल तेल और गैस में ही नहीं, बल्कि टेलीकॉम और रिटेल में भी पांव जमा रहा है. नए व्यवसायों में कुछ वर्षों में रिलायंस की कमाई का 50% योगदान करने की संभावना है. हालांकि इस साल अंबानी का सऊदी अरब की तेल कंपनी को रिलायंस के तेल-से-रसायन कारोबार में हिस्सेदारी बेचना, पांच साल के भीतर दूरसंचार और खुदरा इकाइयों की लिस्टिंग शामिल है.

2016 के अंत से रिलायंस के शेयरों का मूल्य लगभग तीन गुना हो गया है, जब Jio ने मुफ्त कॉल और सस्ते डेटा के साथ भारतीय बाजार में प्रवेश किया. 350 मिलियन से अधिक यूजर्स के साथ Jio ने सितंबर तिमाही के लिए 9.96 बिलियन रुपये ($ 140 मिलियन) की शुद्ध आय दर्ज की, जबकि अन्य दो निजी क्षेत्र के ऑपरेटरों ने रिकॉर्ड नुकसान दर्ज किया.

अब इन smartphones पर कीजिये एयरटेल Wi-Fi कालिंग, नही लगेंगे पैसे

 

 

First published: 24 December 2019, 13:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी