Home » बिज़नेस » yes bank: talking to the media, finance minister took the name of these big corporate houses owing Yes
 

मीडिया से बात करते हुए वित्त मंत्री ने लिया यस बैंक के कर्जदार इन बड़े कॉर्पोरेट घरानों का नाम

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 March 2020, 14:11 IST

यस बैंक संकट के मामले में एक राजनीतिक मोड़ गया जब केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यस बैंक के कर्ज लेनदारों का सार्वजानिक तौर पर नाम ले लिया. इससे पहले आरोप लगाया गया था कि यस बैंक ने ज्यादातर लोन एनडीए सरकार के दौर में दिया था. सीतारमण ने बैंकिंग प्रणाली के प्रबंधन में कांग्रेस पार्टी के ट्रैक रिकॉर्ड पर सवाल उठाया और यस बैंक के संपर्क में चार समूहों को का नाम लिया जो वर्तमान में संकट में हैं. उन्होंने रिलायंस समूह, एस्सेल ग्रुप, डीएचएफएल, आईएल एंड एफएस और वोडाफोन आइडिया का नाम लिया.

शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता के दौरान सीतारमण ने संवाददाताओं से कहा कि मीडिया के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार आने से पहले यस बैंक ने तनावग्रस्त कॉर्पोरेट घरानों को लोन दिया था. उन्होंने कहा “मैं उनका नाम लेने से भी गुरेज नहीं करूंगी. क्योंकि वे पब्लिक डोमेन में हैं और मैं किसी भी ग्राहक की निजता का उल्लंघन नहीं कर रही हूं.


अनिल अंबानी समूह (रिलायंस समूह), एस्सेल समूह (सुभाष चंद्रा के), डीएचएफएल (दीवान हाउसिंग फाइनेंस कार्पोरेशन लिमिटेड), इन्फ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड और वोडाफोन उन तनावग्रस्त कॉर्पोरेट्स में से हैं जिनका नाम यस बैंक में उजागर हुआ है. यह 2014 से पहले का है.”

साल 2015 में UBS ने दी थी यस बैंक के डूबने की चेतावनी, पढ़िए पूरी कहानी

मंत्री ने यह भी कहा कि 2006 में यूनाइटेड वेस्टर्न बैंक का IDBI में विलय तब हुआ जब UPA सत्ता में थी. निर्मला सीतारमण ने कहा मेरे पास कांग्रेस को दोष देने के पर्याप्त कारण हैं. सीतारमण ने 2004 में ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स के साथ ग्लोबल ट्रस्ट बैंक के विलय का भी हवाला दिया.

तिरुमाला मंदिर को YES BANK की हालत का हो गया था अंदाजा, निकाले 1,300 करोड़

First published: 7 March 2020, 14:11 IST
 
अगली कहानी