Home » छत्तीसगढ़ » Bharat bandh: shops and petrol pumps closed in Chhattisgarh
 

भारत बंद : छत्तीसगढ़ में भी बंद रही दुकानें और पेट्रोल पंप

न्यूज एजेंसी | Updated on: 2 April 2018, 17:53 IST

अनुसूचित जाति, जनजाति एक्ट के संबंध में उच्चतम न्यायालय के हाल के फैसले के विरोध में दलित संगठनों का भारत बंद का छत्तीसगढ़ में मिला जुला असर रहा है. भारत बंद के समर्थन में दलित संगठनों के नेता और युवाओं ने आज राजधानी रायपुर में रैली निकाली और दुकानों तथा पेट्रोल पंपों को बंद कराया. आज सुबह से ही दलित समर्थक वाहनों में सवार होकर बाजार में निकले तथा उन्होंने व्यापारियों से दुकाने बंद करने का अनुरोध किया.

समर्थकों ने यहां के डाक्टर भीमराव अंबेडकर चौक में धरना दिया तथा उच्चतम न्यायालय के हाल के फैसले पर विरोध जताया। इस दौरान अलग अलग संगठनों ने बंद का समर्थन किया. इस दौरान सर्व आदिवासी समाज के नेता अरविंद नेताम ने कहा कि देश में अनुसूचित जाति जनजाति वर्ग के लोगों के खिलाफ अत्याचार को रोकने इस कानून को लागू किया गया था. भारत सरकार ने न्यायालय में बेहतर तरीके से पक्ष नहीं रखा जिसके कारण यह फैसला आया 

 

आज बंद के दौरान राजधानी रायपुर समेत राज्य के अन्य शहरों बिलासपुर, रायगढ़ में दुकानें बंद रही. वहीं कुछ स्कूलों में बच्चों को छुट्टी दे दी गई थी। राजधानी रायपुर के अंबेडकर चौक में बंद समर्थकों ने सड़क को जाम कर दिया था जिससे यातायात में परेशानी हुई. बंद समर्थकों ने रायपुर शहर में चलने वाली सीटी बसों को भी रोकने का प्रयास किया। हालांकि अन्य स्थानों पर जाने वाली बसों के परिचालन में परेशानी नहीं आई.

 

राज्य के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने आज भारत बंद का समर्थन किया है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल और कांग्रेस विधायक दल के नेता टी. एस. सिंहदेव ने बंद को समर्थन देते हुए कहा है कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के लोगों का सुरक्षा कवच कहे जाने वाले कानून अत्याचार निरोधक (एट्रोसिटी एक्ट) को शिथिल करना संविधान और संविधान को मानने वाले हम सभी भारतीयों का अपमान हैं.

भाजपा सरकार अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वर्ग को और इन वर्गों के स्वाभिमान, साहस और हिम्मत को कुचलना चाहती है.

First published: 2 April 2018, 17:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी