Home » छत्तीसगढ़ » chhattisgarh : After naxal attack in sukma, cpi pay his grief
 

छत्तीसगढ़: नक्सली हमले के बाद भाकपा ने शोक जताया

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 April 2017, 12:30 IST
naxal attack in sukma

छत्तीसगढ़ के सुकमा में सोमवार को नक्सली हमले में शहीद हुए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 25 जवानों की शहादत पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने कड़ी निंदा करते हुए पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना जताई है, लेकिन इसके साथ ही भाकपा ने इस हमले को ‘लाल आतंक’ नाम दिये जाने पर कड़ी आपत्ति जताई है.

हमले के बाद मंगलवार को भाकपा ने बयान जारी करते हुए कहा, “पार्टी सुकमा में जवानों की हत्या की निंदा करती है. जवानों को सम्मान देती है और पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी संवेदना जताती है."

हालांकि हमले की निंदा करते हुए भाकपा ने इसे ‘लाल आतंक’ कहे जाने पर कड़ी आपत्ति भी दर्ज कराई है. पार्टी के बयान में कहा गया है, “छत्तीसगढ़ में भाकपा सहित कई वाम पार्टियां जनजातीय समुदाय के लोगों के रक्षार्थ काम कर रही हैं. वे नक्सलियों की हिंसा से सहमत नहीं हैं. राजनीतिक रूप से, वैचारिक रूप से और उनके संघर्ष के तरीके से भी नहीं.”

इसके साथ ही भाकपा के द्वारा जारी बयान में कहा गया है कि केंद्र और राज्य सरकार को ‘व्यापक संदर्भ व परिप्रेक्ष्य में गंभीरतापूर्वक आत्मविश्लेषण’ करने की जरूरत है कि क्षेत्र में हालात से निपटने में कामयाबी क्यों नहीं मिल पा रही है?

पार्टी ने कहा, “यह जानकर आश्चर्य हुआ कि सीआरपीएफ का पूर्णकालिक प्रमुख नहीं है और इसे नियमित रूप से खुफिया जानकारी नहीं मिलती हैं. वरना इस तरह की हिंसा को टाला जा सकता था.”

गौरतलब है कि सुकमा में सोमवार को दोपहर 12 बजे के बाद जब सीआरपीएफ जवानों की टीम रोड ओपनिंग के लिए निकली थी और सड़क निर्माण की सुरक्षा में लगे ये जवान खाना खाने की तैयारी कर रहे थे, उसी दौरान घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी. इस हमले में कुल 25 जवान शहीद हो गए. इससे पहले साल 2010 में इसी जगह हुए नक्सली हमले में 76 जवान शहीद हो गए थे.

First published: 26 April 2017, 12:30 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी