Home » छत्तीसगढ़ » First time, Maoist pamphlet calls for hospitals, schools, hostels
 

छत्तीसगढ़ : पहली बार माओवादियों ने पैम्फलेट जारी कर की हॉस्पिटल, स्कूल और हॉस्टल की मांग

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 January 2019, 17:12 IST

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में नामित क्षेत्र समिति के माओवादियों ने डॉक्टरों और शिक्षकों की नियुक्ति के अलावा अपने क्षेत्र में अस्पतालों और स्कूलों की मांग की है. बुधवार की सुबह जारी एक पैम्पलेट में, जो एक हफ्ते पहले लिखा गया है, 17 सूत्री मांग की गई है. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार इस पत्र में लिखा गया है कि "हमारे क्षेत्र में आश्रम, स्कूल, अस्पताल खोले जाएं और सरकारी शिक्षक और डॉक्टर भी नियुक्त किए जाएं.

माओवादियों ने यह भी लिखा है कि जेलों में सालों से बंद राजनीतिक बंदियों को बिना शर्त रिहा किया जाये. यह भी मांग की गई है कि नरसंहार, फर्जी मुठभेड़, और गिरफ्तार करने में दोषी पुलिस अधिकारियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाये. माओवादियों ने मांग की है कि जल- जंगल जमीन पर स्थानीय मूल आदिवासियों को हक़ अधिकार दिया जाये. आदिवासी बस्तर बटालियन में आदिवासी नौजवानों को भर्ती करने से बंद करने की मांग की गई है.


बीजापुर में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की कि इस तरह का एक पम्फलेट जारी किया गया है. हालांकि पुलिस ने इसे संदेहात्मक माना है. एक अधिकारी ने कहा, यह एक तरह से माओवादियों की कोशिश है जिसमे स्थानीय आबादी को अपनी तरफ करने की कोशिश है." पैम्फलेट में शेष 17 बिंदु बेरोजगार, ऋण माफी, किसानों के लिए बोनस, साथ ही पेंशन, बंद किए गए स्कूलों को फिर से खोलने, शिक्षकों के लिए वेतन में वृद्धि, और सभी स्कूलों और अस्पतालों में अच्छी सुविधाओं के लिए नौकरी की मांग की गई है.

पुलिस उप महानिरीक्षक पी सुंदर राज, (एंटी नक्सल ऑपरेशंस) ने कहा, “सरकार और पुलिस की रणनीति इन चीजों को करने और विकास लाने की है. लेकिन यह (इस तरह की मांगों के साथ पैम्फलेट जारी करना) लोगों की सहानुभूति पाने की कोशिश की तरह लगता है.

मोदी सरकार के अंतरिम बजट 2019-20 से क्या उम्मीदें हैं ?

First published: 31 January 2019, 17:12 IST
 
अगली कहानी