Home » छत्तीसगढ़ » Govt probe on Raman Singh son-in-law: Fraud, overspending, fake audit
 

रमन सिंह के दामाद पर 50 करोड़ के गबन का आरोप, सरकारी पैनल ने पेश की रिपोर्ट

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 March 2019, 12:58 IST

छत्तीसगढ़ में पूर्व सीएम रमन सिंह के दामाद पर शिकंजा कसता जा रहा है. वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों के एक तीन-सदस्यीय जांच पैनल ने रायपुर के दाऊ कल्याण सिंह (DKS) सरकारी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में वित्तीय अनियमितताओं को देखते हुए एक रिपोर्ट प्रस्तुत की है. रिपोर्ट में बिना आधिकारिक अनुमोदन, ओवरस्पीडिंग और झूठे ऑडिट का आरोप लगाया गया है. यह 18 पन्नों की इस रिपोर्ट पर आधारित है कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने पिछले हफ्ते भाजपा नेता और तीन बार के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.

गुप्ता ने जनवरी 2016 से जनवरी 2019 तक डीकेएस अस्पताल के अधीक्षक के रूप में कार्य किया, बाद में उन्हें कांग्रेस सरकार ने बाहर कर दिया. पुलिस ने 16 मार्च को गुप्ता पर ' 50 करोड़ रुपये की वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाया और उन्हें आपराधिक साजिश, जालसाजी और धोखाधड़ी के आरोपों के तहत मामला दर्ज किया.

 

शिकायत में जांच रिपोर्ट का विस्तार से उल्लेख है और कहा गया है कि यह समिति द्वारा 8 मार्च को एक जांच आयोजित करने और अस्पताल में निविदा प्रक्रिया में शामिल लोगों से बात करने के बाद प्रस्तुत की गई थी. इसमें कहा गयाहै कि “पूर्व अधीक्षक डॉ. पनीत गुप्ता ने अपने पद का दुरुपयोग किया.

रिपोर्ट में कहा गया है कि अपनी पहुंच का इस्तेमाल 50 करोड़ रुपये के सार्वजनिक धन की धोखाधड़ी करने, जाली दस्तावेजों और फर्जी ऑडिट रिपोर्ट बनाने के लिए किया, जिससे खुद को फायदा हो और कुछ अन्य लोगों ने सरकारी नियमों का उल्लंघन किया और अयोग्य लोगों को नियुक्त किया.

शत्रु संपत्ति से सरकारी खजाने में 11 हजार करोड़ से ज्यादा का इजाफा, जानिए क्या होती हैं शत्रु संपत्तियां

 

First published: 25 March 2019, 12:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी