Home » क्रिकेट » 2011 World Cup winning team India's member under scrutiny for match-fixing ties during RPL
 

भारत में फिर पहुंचा मैच फिक्सिंग का जिन्न, 2011 वर्ल्डकप जीतने वाली टीम इंडिया के खिलाड़ी पर शक

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 April 2018, 11:33 IST

साल 2011 में 2 अप्रैल को भारत ने एमएस धोनी का अगुवाई में दूसरी बार क्रिकेट वर्ल्डकप का खिताब अपने नाम किया था. इस टीम में सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग और जहीर खान जैसे दिग्गज शामिल थे. इसी हफ्ते पूरे देश ने महेंद्र सिंह धोनी के पद्म भूषण अवॉर्ड मिलने के बाद वर्ल्डकप की इस जीत की 7वीं वर्षगांठ मनाई थी.

इस बीच यह वर्ल्डकप एक बार फिर चर्चा में आ गया है. इस बार मामला खिलाड़ी द्वारा की गई मैच फिक्सिंग की फांस का है, जिसमें टीम इंडिया के एक बड़े खिलाड़ी का नाम सामने आ रहा है. दरअसल, इस मैच फिक्सिंग के आरोप में साल 2011 वर्ल्डकप विजेता टीम के एक सदस्य की जांच की जा रही है.

 

बताया जा रहा है कि टीम इंडिया के एक खिलाड़ी पर आरोप है कि उसका मैच फिक्सिंग सिंडिकेट से लिंक है. बता दें कि इस मैच फिक्सिंग सिंडिकेट ने पिछले साल जुलाई में राजस्थान के जयपुर में एक डोमेस्टिक T20 टूर्नामेंट भी आयोजित करवाया था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सबसे पहले यह राजपूताना प्रीमियर लीग (आरपीएल) BCCI के एंटी करप्शन सिक्योरिटी यूनिट के रडार पर आई थी. अब इस मामले में राजस्थान पुलिस की सीआईडी टीम जांच कर रही है. रिपोर्ट के मुताबिक आरपीएल में क्लब क्रिकेटरों ने भाग लिया था और इसका सीधा प्रसारण Neo Sports पर किया गया था.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Neo Sports के पास पहले भारतीय क्रिकेट टीम के डोमेस्टिक मैचों के प्रसारण राइट्स थे. सूत्रों की मानें तो राजस्थान पुलिस को जानकारी मिली है कि मैच फिक्सिंग रैकेट का मास्टरमाइंड ने ही आरपीएल को धरातल पर उतारा था. साथ ही उसका बिजनेस लिंक एक भारतीय खिलाड़ी के साथ भी है, जो अब देश के लिए तीनों फॉर्मेट खेल चुका है.

 

रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि आरोपी प्लेयर इस टूर्नामेंट के इर्दगिर्द भी देखा गया था. साथ ही इस T20 टूर्नामेंट में भी कई तरह के सवाल उभरे थे. एक उदाहरण के तौर पर देखा जाए तो फाइनल में कांटे का मुकाबले था. आखिरी ओवरों में एक बॉलर ने काफी दूर वाइड बॉल फेंकी जिस पर 8 रन बाइ के रूप में मिले. इसी वजह से बीसीसीआई ने राजस्थान पुलिस से लीग की जांच की मांग की थी.

ये भी पढ़ेंः Blackmail Movie Review: दुलर्भ बीमारी से पीड़ित इरफान खान की दमदार एक्टिंग

साल 2011 वर्ल्डकप टीम के सदस्य का नाम उस समय संज्ञान में आया था जब इस केस में पकड़े गए 14 आरोपियों से पूछताछ की गई थी. रिपोर्ट में बताया गया है कि लीग से जुड़े इन सभी आरोपियों को सट्टेबाजी और मैच फिक्सिंग के आरोप में जयपुर के 4 होटलों से पिछले साल जुलाई में गिरफ्तार किया गया था. इन 14 आरोपियों में आरपीएल के ऑर्गनाइजर्स, खिलाड़ी, अंपायर और कथित सट्टेबाज शामिल थे. पुलिस ने उनके पास से कैश, मोबाइल, वॉकी टॉकी और लैपटॉप बरामद किए थे.

First published: 6 April 2018, 11:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी