Home » क्रिकेट » After Not Getting Buyer In IPL 2017 Irfan Pathan,Wrote An Open Letter
 

IPL में दरकिनार इरफ़ान का दर्द-ए-दिल- कोई भी दर्द झेल सकता हूं नहीं छोड़ सकता क्रिकेट

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 February 2017, 15:31 IST

वड़ोदरा के एक छोटे से मुसलमान परिवार में जन्मा वो खिलाड़ी जिसने जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में क़दम रखा तो उसे टीम इंडिया में बतौर ऑल-राउंडर दिग्गज कपिल देव का विकल्प माना जाने लगा. उसने स्विंग की रफ्तार और बल्ले की धमक से टीम में एक नया जोश भर दिया. जब वो अपने बायें हाथ में गेंद लेकर दौड़ लगाता था तो बल्लेबाजों की धड़कनें बढ़ जाती थीं, लेकिन वक़्त की बेवफाई देखिये जनाब आज उस खिलाड़ी को आईपीएल के सीज़न 10 में हुई नीलामी में एक भी खरीदार नहीं मिल सका. जी हां हम बात कर रहे हैं कभी भारतीय तेज गेंदबाज़ी की धुरी माने जाने वाले हरफनमौला क्रिकेटर इरफ़ान पठान की. यह पहली बार होगा कि इरफान आईपीएल में किसी भी टीम का हिस्सा नहीं होंगे. पिछले साल वो राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स की तरफ से खेलते नजर आए थे. 

इरफ़ान का इज़हार-ए-ग़म

आईपीएल के सीज़न 10 में कोई ख़रीदार न मिलने से आहत इरफ़ान पठान ने सोशल मीडिया पर एक दर्द भरा खत अपने समर्थकों के नाम लिखा है. इरफ़ान लिखते हैं,  "2010 में मेरी पीठ में 5 फ्रैक्चर हुए थे मेरे फिजियो ने मुझे कहा कि मैं अब शायद दोबारा कभी क्रिकेट नहीं खेल पाऊंगा. उन्होंने मुझे क्रिकेट छोड़ देने की सलाह दी थी तब मैंने उनसे कहा था कि मैं कोई भी दर्द झेल सकता हूं, मगर अपने देश के लिए यह शानदार खेल छोड़ने का दर्द कदापि  सहन नहीं कर सकता."

आपको बताते चलें कि आईपीएल 2017 की नीलामी में इरफ़ान की बेस प्राइस 50 लाख थी मगर पीछे कुछ समय से इंजर्ड रहने और भारतीय टीम का हिस्सा नहीं होने की वजह से किसी फ्रेंचाइज़ी टीम ने उनमें दिलचस्पी नहीं दिखाई. आईपीएल के इस सीजन की लिए नीलाम न होने पर पठान ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वो हार नहीं मानेंगे और प्रशंसकों की दुआओं और सपोर्ट से हर बाधा को पार करेंगे और दोबारा भारतीय टीम में वापस आने की लिए संघर्ष करेंगे.

करोड़ों की गाड़ी छोड़ 13 साल बाद ट्रेन से क्रिकेट खेलने निकले 'कैप्टन कूल'

इरफ़ान पठान का प्रारंभिक खिलाड़ी जीवन

इरफ़ान पठान ने सबका ध्यान अपनी तरफ तब खींचा, जब उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए एक अभ्यास मैच में 9 विकेट चटकाए थे. जिसके बाद उन्हें राष्ट्रीय टीम में जगह मिली .पठान ने 19 साल की उम्र में दिसंबर 2003 में एडिलेड ओवल मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया. इस सीरीज में पठान ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए अपने चयन को सही साबित किया और भारतीय टीम में अपनी जगह फाइनल कर ली .

इरफान ने भारत के लिए 120 वनडे मुकाबलों में 173 विकेट चटकाए हैं. वही अपने बल्ले से भी अच्छा योगदान देते हुए उन्होंने 1544 रन भी बनाए हैं. पठान ने 29 टेस्ट भी खेले हैं जिसमें उन्होंने 100 विकेटों के साथ 1105 रन भी बनाए हैं. इरफान ने देश के लिए 24 टी-20 मुकाबलों में 28 विकेट हासिल किए हैं. पठान 2007 वर्ल्ड टी-20 में भारतीय विजेता टीम में एक अहम खिलाड़ी के रूप में शामिल थे और फाइनल में उन्होंने 3 विकेट चटकाकर भारत को ख़िताब दिलवाया था.

First published: 22 February 2017, 15:31 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी