Home » क्रिकेट » air pollution is a problem but we are used to it says mohammed shami after srilanka players wore mask
 

IND vs SL: टीम इंडिया के इस गेंदबाज़ ने मास्क पहनने पर श्रीलंका को दिया ये जवाब

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 December 2017, 12:41 IST

भारत और श्रीलंका के बीच तीसरा टेस्ट मैच दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में खेला जा रहा है. दिल्ली में चल रहा टेस्ट फिलहाल रोमाचंक दौर में पहुंच गया है. टीम इंडिया ने चौथे दिन तक मैच में अपनी पकड़़ बना रखी है. खबर लिखे जाने तक टीम इंडिया ने दूसरी पारी में दो विकेट पर  60 रन बना लिये हैं. इस मसय टीम इंडिया की बढ़त 224 रन की हो चुकी है.

इससे पहले श्रीलंका को टीम इंडिया ने में 373 रनों पर आउट कर दिया. मंगलवार को श्रीलंका की तरफ से कप्तान चंदीमल आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे. उन्‍हें ईशांत शर्मा ने आउट किया. चंदीमल ने टीम के लिए सबसे ज्यादा 164 रन बनाए. भारत की ओर से ईशांत शर्मा और रविचंद्रन अश्‍विन ने तीन-तीन विकेट लिए. जबकि रवींद्र जडेजा और मोहम्‍मद शमी को दो-दो विकेट मिले.

दिल्ला के फिरोजशाह कोटला मैदान में श्रीलंका के खिलाड़ियो ने वायु प्रदूषण से बचने के लिए मास्क का इस्तेमाल किया. इसके बाद ये मुद्दा चारों तरफ बहस का मुद्दा बन गया. मैच के चौथे दिन भी फिल्डिंग के दौरान श्रीलंका के कुछ खिलाड़ी मास्क पहन नजर आए. गौरतलब है कि मैच के दूसरे दिन श्रीलंका के खिलाड़ियों ने वायु प्रदूषण की वजह से सांस लेने में दिक्कत बताई थी. इसके बाद खेल रोकना भी पड़ा. हालांकि बल्लेबाजी के दौरान श्रीलंका के खिलाड़ियों ने मास्क का इस्तेमाल नहीं किया.

इस पूरे मामले पर टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने प्रतिक्रिया दी है. मोहम्मद शमी मे मैच के तीसरे दिन का मैच खत्म होने के बाद इस पर खुलकर बात कीउन्होने कहा कि  दिल्‍ली में तीसरे टेस्‍ट के दौरान प्रदूषण के मुद्दे को श्रीलंका टीम ने बहुत ही बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया.

 

उन्होंने कहा दिल्ली टेस्ट के दूसरे दिन श्रीलंकाई खिलाड़ियों द्वारा की गई प्रदूषण की शिकायत उतनी बड़ी नहीं थी जो उनके द्वारा अंपायरों को बताई गई. टीम इंडिया के खिलाड़ियों को प्रदूषण की समस्या इतनी परेशान नहीं करती है. हम इसके आदी हो गए हैं. 

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, "जहां प्रदूषण वाली बात है जाहिर सी बात है कि सोचने का विषय है, लेकिन जितना बताया जा रहा था उतना कुछ भी नहीं था. हो सकता है कि हम इस तरह के वातावरण के आदी हो गए है, ज्यादा उस चीज को बर्दाश्त करते हैं तो हो सकता हमें दिक्कत न हुई हो."

First published: 5 December 2017, 12:41 IST
 
अगली कहानी