Home » क्रिकेट » Anil Kumble reveals in VVS Laxman Show about Anil kumble 10 wicket haul
 

अनिल कुंबले ने टीम इंडिया के खिलाड़ी पर लगाया 'बड़ा आरोप', बोले- बिगाड़ना चाहता था बड़ा कारनामा

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 November 2019, 11:14 IST

भारत के पूर्व लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने बड़ा खुलासा किया. पाकिस्तान के खिलाफ एक पारी में10 विकेट लेने वाले इस स्पिन गेंदबाज ने कहा कि उनके हमवतन सदगोपन रमेश ने दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर साल 1999 में हुए मुकाबले में उनके इस कारनामे को लगभग पूरा खराब कर दिया था.

भारत के पूर्व कोच ने पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण के साथ हुई बाचतीच में इस बात का खुलासा किया. वीवीएस लक्ष्मण से हुई बातचीत में कुंबले ने कहा जब उन्होंने पाकिस्तान के 9वें बल्लेबाज को पवेलियन का राह दिखाई तो भारतीय टीम ने यह तय कि उन्हें उनका 10 विकेट भी लेने दिया जाए.


 

टीम इंडिया के सबसे सफल गेंदबाजों में शुमार इस खिलाड़ी ने आगे कहा कि रमेश, वाहर श्रीनाथ की गेंद पर वकार यूनुस का कैच लपकने के लिए दौड़े थे लेकिन वो इस कैच को नहीं ले पाए क्योंकि गेंद खिलाड़ी से काफी दूर गिरी. उन्होंने कहा,'उन्हें यह कैच छोड़ना था, यह योजना थी.'

वीवीएस लक्ष्मण द्वारा होस्ट किए जाने वाले इस शो में अनिल ने आगे कहा,'मुझे नहीं लगता कि रमेश ने टीम की योजना सुनी, वह ऐसे ही है. वह शायद यह भूल गए कि मैंनें 9 विकेट ले लिए हैं और 10वें विकेट की तलाश में हूं. इसलिए वह कैच के लिए दौड़े.'

हालांकि इसके कुछ ही मिनटों के बाद कुंबले ने वसीम अकरम का विकेट हासिल किया और इसी के साथ ही वो पहले भारतीय क्रिकेटर बन गए जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मुकाबले में किसी पारी में 10 बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई.कुंबले से पहले इंग्लैंड के जिम लेकर यह कारनामा कर चुके थे.

अनिल कुंबले ने इस मैच के बारे में आगे बताते हुए कहा,'लंच ब्रेक के दौरान हम बिल्कुल भी खुश नहीं था. मुझे याद है कि हमारे कोच अंशुमान गायकवाड़ ने आकर हमसे कहा था कि हम अपना खेल बढ़ाएं. मुझे पता था कि मुझे जिम्मेदारी लेनी होगी क्योंकि मैं सीनियर स्पिनर था. मुझे लगा कि अगर मैं 4वें ट्रैक गेंद डालता हूं तो मुझे एक विकेट मिल सकता है.'

 

दरअसल, इस मुकाबले में भारतीय टीम के लिए शुरू में कुछ अच्छा नहीं चल रहा था. पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज सईद अनवर और शाहिद अफरीदी ने टीम को काफी अच्छी शुरूआत दिलाई थी. और लंच तक एक भी विकेट गिरने नहीं दिया था. लेकिन लंच के बाद पाकिस्तान को अफरीदी के रूप में पहला झटका लगा और इसके बाद विकटों की झड़ी सी लग गई.

अनिल कुंबले ने साल 2008 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया था. कुंबले ने जब संन्यास का ऐलान किया था तब वो भारतीय टीम के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज थे. उन्होंने 619 बल्लेबाजों को पवेलियन की राह दिखाई थी. कुंबले ने साल 2006-008 तक भारतीय टीम की कमान भी संभाली थी.

रांची स्टेडियम में जिस नेट पर धोनी ने की प्रैक्टिस, तीन राज्यों की मिट्टी से बनी हैं वो पिच

First published: 19 November 2019, 10:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी