Home » क्रिकेट » Australia completed a hat-trick of cricket world cup title wins On This Day in 2007 beating Sri Lanka by 53 runs
 

आज के दिन ऑस्ट्रेलिया ने लगाई थी वर्ल्ड कप जीत की हैट्रिक, गिलक्रिस्ट के तूफान में उड़ा था श्रीलंका

विकाश गौड़ | Updated on: 28 April 2018, 16:20 IST

साल 1999 वर्ल्ड कप का फाइनल...ऑस्ट्रेलिया बनाम पाकिस्तान...8 विकेट से ऑस्ट्रेलिया की जीत...मैच के हीरो शेन वॉर्न...साल 2003 वर्ल्ड कप का फाइनल...ऑस्ट्रेलिया बनाम इंडिया...125 रन से ऑस्ट्रेलिया की जीत...मैच के हीरो कप्तान रिकी पॉटिंग...साल 2007 वर्ल्ड कप का फाइनल...ऑस्ट्रेलिया बनाम श्रीलंका...53 रन से ऑस्ट्रेलिया की जीत...मैच के हीरो एडम गिलिक्रिस्ट...

आज हम इस बात का जिक्र इसलिए कर रहे हैं क्योंकि आज ही के दिन साल 2007 में 28 अप्रैल को ऑस्ट्रेलिया ने रिकी पॉटिंग की कप्तानी में दूसरा और ऑस्ट्रेलिया ने लगातार तीसरा वर्ल्ड कप जीत कर ICC के सबसे बड़े टूर्नामेंट में जीत की हैट्रिक लगाई थी. इसी के साथ ऑस्ट्रेलिया के पास वर्ल्ड कप की चार ट्रॉफी हो गईं थी. जो कि बाकी विजेता टीमों से दो ज्यादा थीं.

 

आपको बता दें साल 1999 से पहले ऑस्ट्रेलिया ने साल 1987 में वर्ल्ड कप अपने नाम किया था. इसके बाद साल 1992 में पाकिस्तान और साल 1996 में श्रीलंका ने वर्ल्ड कप खिताब पर कब्जा जमाया था. इसके बाद इस बड़े खिताब पर लगातार तीन बार ऑस्ट्रेलिया का कब्जा रहा.

इस कड़ी में पहले ऑस्ट्रेलिया को कप्तान स्टीव वॉ ने वर्ल्डकप दिलाया, जिसमें उन्होंने पाकिस्तान को 8 विकेट से मात देकर इस खिताब पर कब्जा जमाया. इसके बाद कप्तानी रिकी पॉटिंग को मिल गई. इसके बाद साल 2003 में वर्ल्डकप हुआ जिसकी विजेता ऑस्ट्रेलिया रही.

 

इस खिताबी मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 125 रनों से हराकर एक बार फिर से वर्ल्ड कप पर कब्जा जमाया. इसके बाद फिर से साल 2007 के वर्ल्ड कप में कप्तान रिकी पॉटिंग थे, जिसका फाइनल आज ही के दिन हुआ था. इसमें ऑस्ट्रेलिया ने श्रीलंका को डकवर्थ लुईस नियम के लागू होने के बाद 53 रन से हरा दिया और इस खिताबी की हैट्रिक लगा दी.

ये भी पढ़ेंः पृथ्वी शॉ ने जड़ा धोनी का ट्रेडमार्क हेलिकॉप्टर शॉट, देखते रह गए दर्शक

बाद में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान रिकी पॉटिंग के पास अपनी कप्तानी में एक और वर्ल्डकप जीत कर हैट्रिक लगाने का चांस था लेकिन साल 2011 के वर्ल्ड कप में भारत ने युवराज सिंह की जुझारू पारी के दम पर ऑस्ट्रेलिया को सेमीफाइनल में जाने से रोका. बाद में टीम इंडिया ने एमएस धोनी की कप्तानी में इस वर्ल्ड कप पर श्रीलंका को हराकर कब्जा जमाया.

 

आपको बता दें साल 2007 के वर्ल्ड कप के फाइनल में एडम गिलिक्रिस्ट के बल्ले ने जमकर रन उगले थे. देखते ही देखतेे गिलिक्रिस्ट ने डकवर्थ लुईस नियम लागू होने के बाद 38 ओवर के इस मुकाबले में 149 रन ठोक डाले थे. इस पारी के दौरान उन्होंने 13 चौके और 8 छक्के लगाए थे. साथ ही 104 गेंदों का सामना किया था. इस ऐतिहासिक मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने 38 ओवर में 4 विकेट खोकर 281 रन बनाए थे.

ये भी पढ़ेंः IPL के सबसे खराब कप्तान हैं विराट कोहली, सबसे बेहतरीन हैं धोनी!  

वर्ल्ड कप 2007 के फाइनल में जब श्रीलंका को 282 रनों का लक्ष्य मिला तो बल्लेबाजोंं को होश उड़ गए. इस मुकाबले में महेला जयवर्धने के पास श्रीलंका की कमान थी. इसमें श्रीलंका जल्द पहला झटका लगा जब उपुल थरंगा 6 रन के निजी स्कोर पर आउट हो गए. बाद में कुमार संगाकार ने सनत जयसूर्या के साथ मिलकर 100 से ज्यादा रनों की साझेदारी कर टीम के लिए वर्ल्ड कप जीतने की आस जगाई लेकिन जब संगाकारा आउट हुए तो उसके बाद टीम संभल नहीं सकी.

संगाकारा के बाद जयसूर्या फिर कप्तान जयवर्धने आउट हो गए. देखते ही देखते टीम 38 ओवर खेल गई और महज 215 रन बना सकी. लिहाजा टीम को 53 रनों से करारी हार मिली और इस तरह ऑस्ट्रेलिया ने वर्ल्ड कप जीत की हैट्रिक लगा डाली, जिसे किसी भी टीम के लिए तोड़ना बेहद कठिन है.

First published: 28 April 2018, 16:17 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी