Home » क्रिकेट » Australia won their second men's cricket world cup title to beat pakistan On This Day in 1999 Shane Warne 4 wicket Player Of The Match
 

ऑस्ट्रेलिया की शर्मनाक हार के घाव को 19 साल पहले मिली ऐतिहासिक जीत लगा सकती है मरहम

विकाश गौड़ | Updated on: 20 June 2018, 13:14 IST

दिन महीने साल सब बदल जाते हैं लेकिन एक चीज हमेशा याद रहती है वो है एक याद. इस याद को हम खुद बनाते हैं. ये आपके के ही ऊपर है कि आप पुरानी याद को सदाबहार याद बनाना चाहते हैं या फिर एक बुरी याद. ऐसी ही याद ऑस्ट्रेलिया के साथ साल 1999 के आज के दिन से जुड़ी है, जिसे कंगारू हमेशा याद रखना चाहेंगे.

वहीं, अगर मंगलवार को खेले गए इंग्लैंड के खिलाफ वनडे मैच को कंगारू सपने में भी याद करने की सोच नहीं सकते. दरअसल, ऐसा है कि ऑस्ट्रेलिया ने साल 1999 में आज ही के दिन आईसीसी वर्ल्डकप का दूसरा खिताब अपने नाम किया था तो वहीं कल यानी 19 जून 2018 को ऑस्ट्रेलिया को उसके वनडे इतिहास की सबसे बड़ी (242 रन) हार मिली है.

साल 1999, तारीख 20 जून. ऑस्ट्रेलिया वर्सेस पाकिस्तान मैच. मैदान लंदन का लॉर्ड्स. मैच ICC वर्ल्डकप का फाइनल. ये एक ऐतिहासिक मुकाबला था जिसे ऑस्ट्रेलिया ने जीतकर दूसरी बार आईसीसी के सबसे बड़े टूर्नामेंट वर्ल्डकप पर कब्जा जमाया था. इस मैच में कंगारुओं ने पाकिस्तान को 8 विकेट से मात दी थी.

पाकिस्तान ने वर्ल्डकप 1999 के फाइनल में टॉस तो जीता लेकिन मैच नहीं जीत पाए. इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ऑस्ट्रेलियाई धारदार स्पिन के सामने 39 ओवरों में 132 रनों पर ढेर हो गई थी, जिसमें शेन वॉर्न ने 4 अहम विकेट चटकाए थे जबकि ग्लेन मेग्रा और टोम मूडी ने दो-दो विकेट लेकर पाकिस्तान की कमर तोड़ दी थी.

वहीं, पाकिस्तान की ओर से सबसे ज्यादा रन (22) इजाद अहमद ने बनाए. इजाद के अलावा अब्दुल रज्जाक ने 17, इंजमाम उल हक और सईद अनवर ने 15-15 रन की पारी खेली थी. वहीं, ऑस्ट्रेलिया की तरफ से एडम गिलिक्रिस्ट (57), मार्क वॉ (37 रन नाबाद), रिकी पोंटिग (24) और डेरेन लेहमेन (नाबाद 13 रन) ने मैच 20.1 ओवर में खत्म कर दिया. इस मैच में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सिर्फ दो विकेट गिरे. इन दो विकेट्स में से एक विकेट कप्तान वसीम अकरम और एक विकेट शकलीन मुस्ताक को मिला.

आपको बता दें, इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने साल 1987 में पहला वर्ल्डकप खिताब जीता था. ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को सात रन से हराकर इस खिताब पर कब्जा जमाया था. इसके 12 साल फिर यह मौका कंगारू टीम के हाथ लगा और पाकिस्तान को मात देकर वर्ल्डकप 1999 की ट्रॉफी पर कब्जा जमाया.

इसके अलावा साल 2003 में भारत को 125 रन से हराकर तीसरी बार और फिर साल 2007 में श्रीलंका को 53 रन से रौंदकर वर्ल्डकप की चमचमाती ट्रॉफी पर चौथी और लगातार तीसरी बार कब्जा जमाया था. लेकिन ऑस्ट्रेलिया की इस विजयी अभियान को टीम इंडिया ने रोक दिया और साल 2011 में इस कप पर भारत की बादशाहत कायम हो गई.

लेकिन फिर एक बार पर ऑस्ट्रेलिया ने पासा पलटा और साल 2015 के वर्ल्डकप पर न्यूजीलैंड को सात विकेट से हराकर बादशाहत छीन ली. इस तरह ऑस्ट्रेलिया के पास वर्ल्डकप की 5 ट्रॉफियां हो गई हैं, जो किसी भी देश से संख्या में दो गुनी से भी ज्यादा हैं.

First published: 20 June 2018, 12:32 IST
 
अगली कहानी