Home » क्रिकेट » Bangladeshi man arrested for giving death threat to cricketer Shakib for inaugurating Kali Puja
 

काली पूजा में शामिल हुए शाकिब अल हसन तो मिली जान से मारने की धमकी, बाद में मांगी माफी, एक गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 November 2020, 14:16 IST

बांग्लादेश (Bangladesh Cricket Team) के ऑल राउंडर खिलाड़ी शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) को जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मंगलवार को बांग्लादेश पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया है. बता दें, बीते दिनों ही शाकिब अल हसन ने कोलकाता में एक काली पूजा पंडाल का उद्घाटन किया था, जिसके बाद से बांग्लादेश में उनका काफी विरोध हो रहा था और उन्हें जान से मारने की धमकी मिली थी.

अपराध-विरोधी रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) और पुलिस की एक संयुक्त टीम ने 28 वर्षीय मोहसिन तालुकदार को दक्षिणपूर्वी सुनामगंज जिले से 24 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद गिरफ्तार किया है. न्यूज एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस के एक अधिकारी ने बताया,"वह अब हमारी गिरफ्त में है और आगे की कानूनी प्रकिया का पालन किया जाएगा."


गौरतलब हो कि बीते गुरूवार को शाकिब पश्चिम बंगाल के बेलाघाट क्षेत्र में काली पूजा का उद्घाटन करने के लिए कोलकाता आए थे. इस दौरान का उनका एक फोटो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ जिसके बाद तालुकदार
ने फेसबुक पर लाइव करके शाकिब को जान से मारने की धमकी दी थी. हालांकि, उन्होंने बाद में इसके लिए माफी मांग ली और उसके बाद वो गायब हो गया.

33 साल के क्रिकेटर ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ऐसे सभी दावों का खंडन किया है जिसमें दावा किया गया है कि उन्होंने काली पूजा के पंडाल का उद्घाटन किया है. शाकिब ने बताया कि इसका उद्धाटन कोलकाता के मेयर फहाद हकीम ने किया है. इस दौरान उन्होंने काली पूजा में जानकर कैंडल जलाने को लेकर माफी मांगी.

शाकिब अल हसन ने कहा,"मीडिया, सोशल मीडिया हर जगह यह बाढ़ आ गई थी कि मैं एक पूजा समारोह का उद्घाटन करने के लिए कोलकाता गया था, जो वास्तव में मेरी यात्रा के पीछे का कारण नहीं था और मैंने पूजा का उद्घाटन नहीं किया. मेरे निमंत्रण कार्ड में यह स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया था कि मैं पूजा के लिए मुख्य अतिथि नहीं था."

शाकिब ने आगे बताया कि वो आईपील में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए कुछ वर्षों तक खेले थे जिसके बाद से लोग उनके फैंस हो गए और उनसे प्यार करने लगे और उन्हें कार्यक्रमों में बुलाने लगे. उन्होंने बताया की जहां उनका कार्यक्रम था उसके पास ही पूजा का पंडाल था और जब वो वापस अपनी कार में जा रहे थे, तब उन्होंने पूजा पंडाल से ही गुजरना पड़ा क्योंकि सारे रास्ते बंद थे. इस दौरान आयोजकों ने उन्हें रोका. इसके बाद उन्होंने एक मोमबत्ती जलाई.

हालांकि, शाकिब ने मोमबत्ती जलाने के लिए माफी मांगी लेकिन उनका विरोध होता रहा. वहीं मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, तृणमूल कांग्रेस के विधायक परेश पॉल, जो कोलकाता में काली पूजा मंच के मुख्य आयोजक थे, ने बताया कि शाकिब ने किसी भी पूजा पंडाल का उद्घाटन नहीं किया है और वह मंच पर गए, दर्शकों को संबोधित किया और मोमबत्तियाँ जलाईं.

मुंबई एयरपोर्ट पर रोके गए क्रुणाल पांड्या, कस्टम के अधिकाारियों ने की पूछताछ, बरामद हुआ तय मात्रा से ज्यादा गोल्ड

First published: 18 November 2020, 14:01 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी