Home » क्रिकेट » BCCI Ex Secretary Sanjay Jagdale said team India middle order not Strong
 

World Cup 2019: बीसीसीआई के पूर्व सेलेक्टर का बड़ा बयान, बोले- भारतीय टीम का मिडिल ऑर्डर नहीं था मजबूत

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 July 2019, 20:11 IST

ICC Cricket World Cup 2019 के सेमीफाइनल मुकाबले में हारने के बाद टीम इंडिया का सफर खत्म हो गया. सेमीफाइनल के अहम मुकाबले में भारतीय बल्लेबाजी पूरी तरह से लड़खड़ा गई जिसके परिणास्वरूप टीम का तीसरी बार विश्व चैंपियन बनने का सपना टूट गया.

वहीं सेमीफाइनल में टीम इंडिया को मिली हार के बाद भारतीय क्रिकेट फैंस ने चयन समीति की आलोचना करना शुरू कर दी है. इसका एक कारण भी है. दरअसल, विश्व कप के पहले तक भारत ने नंबर चार के बल्लेबाज के लिए सबसे ज्यादा प्रयोग किए. रायडू, कार्तिक से लेकर मनीष पांडे को अजमाया गया लेकिन टीम में विजय शंकर को जगह दी गई.

 

साल 2003, 2007 और टी20 के लिए भारतीय टीम का चयन वालों में से एक और बीसीसीआई के पूर्व सेक्रेटरी संजय जगदाले ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए एक सवाल के जवाब में कहा कि विश्व कप में जो टीम गई थी उसका मीडिल आर्डर सेटल नहीं था.

उन्होंने आगे कहा,'मैं अंजिक्य रहाणे को नंबर चार पर बल्लेबाजी करते हुए देखना चाहता हूं. आप उन खिलाड़ियों को टीम में नहीं चुन सकते जो साल 2003 से भारतीय टीम के लिए खेल रहे है लेकिन फिर भी टीम में जगह बनाने में सफल नहीं हुए. वो आपका भविष्य नहीं है. रहाणे ने इंग्लैंड के दौरे पर काफी अच्छा प्रदर्शन किया था. साथ ही ऐशिया के बाहर उनका प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है. कोहली और चेतेश्वर पुजारा को छोड़कर काफी कम बल्लेबाज अभी तक ऐसा प्रदर्शन कर पाए है.'

 

विश्व कप के लिए जब टीम का ऐलान हुआ तो उसमें ऋषभ पंत को जगह नहीं मिली थी. चयनकर्ताओं के इस फैसले ने कई दिग्गज क्रिकटरों को हैरान कर दिया था. हालांकि पंत को रिजर्व खिलाड़ियों की सूची में रखा गया और जब विजय शंकर चोटिल हुए तब पंत को टीम में शामिल किया गया.

विश्व कप के लिए चुनी गई 15 सदस्यीय टीम में ऋषभ पंत को शामिल न करने पर हैरानी जताते हुए संजय जगदाले ने कहा,'मैं बहुत ही आश्चर्यचकित हुआ था, जब ऋषभ पंत को वर्ल्ड कप की टीम में नहीं शामिल किया गया था और मैं मनीष पांडे और श्रेयस अय्यर जैसे खिलाड़ियों के लिए भी अफसोस करता हूं जिन्हें विश्व कप की टीम में नहीं शामिल किया गया था.'

 

वहीं अंबाती रायडू जिन्हें विश्व कप से पहले नंबर चार के सबसे उपयुक्त बल्लेबाज के तौर पर देखा जा रहा था उन्हें टीम में शामिल नहीं किया गया. यहां तक की जब शिखर धवन और विजय शंकर चोटिल होकर विश्व कप से बाहर हुए तब भी उन्हें टीम में जगह नहीं मिली. उनकी जगह टीम में मंयक अग्रवाल को शामिल किया गया था. मयंक अंग्रवार ने रायडू की तुलना में काफी कम वनडे मैच खेले है.

लगातार हो रही अपेक्षा से तंग आकर रायडू ने संन्यास का ऐलान कर दिया. इस पर जगदाले ने कहा कि उन्हें रायडू के लिए बिल्कुल भी अफसोस नहीं है क्योंकि रायडू को काफी मौके मिले लेकिन वो साबित नहीं कर पाए. उन्होंने कहा कि आईपीएल के प्रदर्शन के आधार पर टीम में चयन नहीं हो सकता.

World Cup 2019: एक बार फिर अंपायर ने सेमीफाइनल के मुकाबले में दिया गलत निर्णय, शतक लगाने से चूका यह बल्लेबाज

 

First published: 12 July 2019, 20:11 IST
 
अगली कहानी