Home » क्रिकेट » BCCI Send Notice to CAC Members on Interest of Conflict
 

बड़ी खबर: रवि शास्त्री की हो सकती है टीम इंडिया के कोच पद से छुट्टी, दोबारा होगा कोच का चयन!

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 September 2019, 17:11 IST

विश्व कप के 12वें संस्करण के बाद से ही माना जा रहा था कि टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री की कोच पद से छुट्टी हो सकती है. लेकिन वेस्टइंडीज दौरे के दौरान कपिल देव की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी ने एक बार फिर रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच बनाया.

ऑस्ट्रेलिया में होने वाला विश्व कप और बीते वर्ष में सीरीज दर सीरीज भारतीय टीम का बेहतरीन प्रदर्शन के कारण ही रवि शास्त्री को टीम इंडिया का कोच बनाया गया.

 

वहीं शास्त्री को टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली की भी साथ मिला था. इसके साथ ही टीम इंडिया के खिलाड़ियों के साथ उनकी काफी बनती थी वो जानते थे कि किस खिलाड़ी का कहा इस्तेमाल करना है और किस खिलाड़ी में क्या कमी है. लेकिन अब बीसीसीआई के लोकपाल ने क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी के तीनों सदस्यों को हितों के टकराव मामले में नोटिस भेजा हैं जिसके कारण रवि शास्त्री की मुश्किलें बढ़ सकती है.

मध्यप्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के सदस्य संजीव गुप्ता ने बीसीसीआई के लोकपाल डी के जैन को तीनों सदस्यों के खिलाफ शिकायत की है, जिसके बाद डी के जैन ने सीएसी के तीनों सदस्यों को एक बाक फिर से नोटिस भेजा है.

 

संजीव गुप्ता ने अपनी शिकातयत में कहा है कि सीएसी के तीनों सदस्यों के पास इस पद के अवाला भी कई और पद है. साल 1983 में भारत को पहली बार विश्व विजेता बनाने वाले टीम इंडिया के पूर्व कप्तान कपिल देव सीएसी के अलावा क्रिकेट कॉमेंट्री भी करते हैं साथ ही वो भारतीय क्रिकेटर्स संघ के सदस्य हैं. बीसीसीआई के नियमों के मुताबिक सीएसी का कोई सदस्य क्रिकेट से जुड़े किसी एक पद पर ही रह सकता है.

न्यूज एजेंसी आईएएनएस से बात करते हुए इस मामले से जुड़े एक अधिकारी ने कहा,'अगर समिति जिसने भारतीय टीम के मुख्य कोच का चुनाव किया है उनको हितो के टकराव मामले में दोषी पाया जाता है तो फिर कोच शास्त्री की नियुक्ति की प्रक्रिया को दोबारा से करना होगा. एक नई समिति का दोबारा से गठन करना होगा और कोच के नियुक्ति की पूरी प्रक्रिया को दोबारा से करना होगा.'

गौतम गंभीर की बढ़ी मुश्किलें, दिल्ली पुलिस ने दायर की चार्जशीट, करोड़ों की धोखाधड़ी का है आरोप

First published: 29 September 2019, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी