Home » क्रिकेट » BCCI will Set up Medical Board and Social Media Experts in NCA
 

सौरव गांगुली ने उठाया बड़ा कदम, राहुल द्रविड़ की एनसीए में किए कई बदलाव

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2020, 18:39 IST

राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी(National Cricket Academy) जिसके निदेशक टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी राहुल द्रविड( Rahul Dravid) है उसमें बीसीसीआई(BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली(Sourav Ganguly) ने कई बदलाव करने का फैसला लिया है. बीसीसीआई, एनसीए(NCA) में आने वाले दिनों में एक मेडिकल बोर्ड और सोशल मीडिया एक्सपर्ट की एक टीम को रखने का मन बना रही है. एनसीए में इन बड़े बदलाव के फैसले हाल ही में अकादमी की हुई एक बैठक में लिए गए. इस बैठक में सौरव गांगुली और एनसीए के निदेशक राहुल द्रविड़ सहित बीसीसीआई के कई अधिकारियों ने शिरकत की थी.

हाल ही में टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा और तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की चोट को पकड़ने में असफल रहने के लिए एनसीए की आलोचना हुई थी. इतना ही नहीं टीम इंडिया के ऑल राउंडर हार्दिक पंड्या और तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी की बजाए बेंगलुरू के एक निजी रिहैबिलिटेशन में गए थे. बीसीसीआई के एक बड़े अधिकारी ने पीटीआई को बताया कि बीसीसीआई एनसीए में अपना खुद का अपना मेडिकल पैनल बनाने के लिये लंदन स्थित फोरटियस क्लिनिक की सलाह लेने वाला है.

 

बीसीसीआई अभी अपना पूरा ध्यान राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी की प्रतिष्ठता सुधारने में लगा रही है. इसी के तहत अकादमी में तेज गेंदबाजी प्रमुख की नियुक्ति की जाएगी, यह पद काफी लंबे समये से खाली पड़ा है. इस पद पर जो व्यक्ति होगा उसके ऊपर एनसीए में तेज गेंदबाजी कार्यक्रम गठित करने की जिम्मेदारी होगी. इतना ही नहीं हाल में एनसीए में जो भी घटनाक्रम हुआ उसके बारे में अकादमी से कोई बयान नहीं आया. ऐसे में अकादमी ने सोशल मीडिया मैनेजर भी रखने का फैसला रखने का फैसला लिया है.

बता दें, सौरव गांगुली ने एनसीए में बदलाव के पहले ही संकेत दे दिए थे. गागुली ने बीसीसीआई का अध्यक्ष पद संभालते ही कह दिया था कि एनसीए में क्रिकेट से संबंधित विकास कार्यक्रमों को मुख्य केंद्र में रखने की बात कही थी. इतना ही नहीं आने वाले दिनों में एनसीए में जल्द ही लेवल दो और लेवल तीन की कोचिंग भी दी जाएगी.

साल 2020 का पहला टेस्ट मैच हो सकता है रद्द, अगर मैदान पर उतरे खिलाड़ी तो जाना पड़ेगा अस्पताल!

First published: 2 January 2020, 17:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी