Home » क्रिकेट » birthday special reasons why Sourav Ganguly is the Best Indian captain ever Ganguly controversy
 

एेसा क्रिकेटर जिसकी मैदान पर भी चलती थी 'दादागीरी'

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 July 2017, 11:57 IST

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली 44 साल के हो गए हैं. बाएं हाथ के इस कलात्मक बल्लेबाज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत तो 1992 में वन-डे से की, लेकिन उन्हें पहचान 1996 के इंग्लैंड दौरे से मिली. आज उनके जन्मदिन के खास मौके पर पढ़िए दादा की दादागीरी के मशहूर किस्से...

1. 1991-92 में ऑस्ट्रेलिया टूर पर गई टीम इंडिया में सौरव गांगुली को डेब्यू करने का मौका मिला था. गांगुली के डेब्यू के साथ उनके करियर के पहले विवाद ने भी यहां जन्म ले लिया था. मीडिया रिपोर्ट्स में ये दावा किया गया था कि बैंच्ड प्लेयर के तौर पर उन्होंने फील्ड पर मौजूद प्लेयर्स के लिए ड्रिंक्स ले जाने के लिए मना कर दिया था. उनके इस एटीट्यूड की वजह से उन्हें 4 साल तक टीम में जगह नहीं मिली थी. 

2. साल 1999 के वर्ल्डकप में सौरव ने श्रीलंका के खिलाफ 183 रन की पारी खेलकर कपिल देव की 175 रन की पारी का रिकॉर्ड भी तोड़ा. उस वक्त यह किसी भी भारतीय बल्लेबाज का ये वनडे में सर्वश्रेष्ठ स्कोर था. ऑफ साइड में सौरव के शानदार स्ट्रोक प्ले की वजह से कई कमेंटेटर तो उन्हें ‘ ऑफ साइड का भगवान’ भी कहते थे.

3. 2001 में गांगुली ने श्रीलंका के खिलाफ मैच में आउट होने के बाद गुस्से में अंपायर को बैट दिखाया था. इसके बाद बॉलिंग के दौरान अंपायर के एक फैसले पर बहस करने लगे थे, जिसके बाद उन पर एक और मैच का बैन लगा दिया गया था.

4. सौरव ने वर्ष 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ नटवेस्‍ट ट्रॉफी के फाइनल के दौरान लार्ड्स ग्राउंड की बालकनी में जश्‍न के अंदाज में अपनी शर्ट उतारकर लहराई थी. यह क्रिकेट इतिहास की ऐतिहासिक घटना थी. भारत में इसे जश्न के तौर पर देखा गया, तो वहीं क्रिकेट दिग्गजों ने इसे लॉर्ड्स मैदान का अपमान बताया था. हालांकि, गांगुली ने शर्ट उतारकर भारत में ऐसी ही हरकत करने वाले एंड्रयू फ्लिंटॉफ को जवाब दिया था.

First published: 8 July 2017, 11:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी