Home » क्रिकेट » brian lara reveals many secrets of westindies cricket team in 1980- 1990.
 

लारा ने वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम की बेईमानी का किया पर्दाफाश

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 September 2017, 21:08 IST

वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज ब्रेन लारा ने वेस्टइंडीज की टीम के बारे में कई खुलासे किए हैं. उन्होंने लॉड्स में एमसीसी स्प्रिट ऑफ क्रिकेट लेक्चर के दौरान कहा कि 90 के दशक में वेस्टइंडीज अपराजेय क्रिकेट टीम थी. इसके बावजूद वो मैदान में हमेशा सही खेल भावना से नहीं खेलती थी.

लारा ने कहा कि, वेस्टइंडीज ने करीब डेढ़ दशक तक कोई भी टेस्ट सीरीज नहीं हारी थी, पर जब दुनिया की दूसरी टीमें हमें टक्कर देने लगी तो वेस्टइंडीज के कई महान खिलाड़ियों ने मैदान पर बेईमानी की. खेल वेबसाइट क्रिक इंफो ने लिखा, 'विश्व की शीर्ष टीम पर पर खेल की अखंडता को बनाए रखने की जिम्मेदारी होती है. वे जब भी मैदान पर उतरते हैं तो खेल भावना को बनाए रखने की जिम्मेदारी हमेशा से उनकी प्राथमिकता होती है.'

लारा ने बताए बेईमानी के किस्से

लारा ने 1989 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेली गई टेस्ट सिरीज के बारे में खुलासा करता हुए कहा कि जब कोलिन क्रॉफ्ट से बहस के बाद माइकल होल्डिंग ने अंपायर को कंधा मार दिया था. उन्होंने कहा, 'मैं उस समय पैदा हुआ था जब वेस्टइंडीज का विश्व क्रिकेट में दबदबा था. उन्होंने कहा इसके अलावा एक बार माइकल होल्डिंग यह भूल गए थे कि वह क्रिकेटर नहीं, फुटबॉलर हैं. उन्होंने गुस्से में स्टंप्स को ही किक मार दी.'

पाकिस्तान सिरीज पर बोले

लारा के अनुसार 1988 में  वेस्टइंडीज़ ने बारबाडोस में पहला टेस्ट हारने के बाद अगला टेस्ट ड्रॉ करवा लिया था और पाकिस्तान अभी भी सिरीज़ में 1-0 से आगे थी. तीसरे टेस्ट के पांचवे दिन जेफ़्री ड्यूजॉन पुछल्ले बल्लेबाज़ों के साथ टीम को जिताने के लिए संघर्ष कर रहे थे, तभी अब्दुल क़ादिर की बॉल पर ड्यूजॉन के ख़िलाफ़ बेट-पैड कैच की ज़ोरदार अपील हुई. अंपायर सहमत भी थे क्योंकि उन्होंने अंगली उठा दी थी लेकिन साथ ही सिर हिलाकर नॉटआउट भी कह दिया. हालांकि मैं उस मैच में नहीं खेल रहा था लेकिन मुझे शर्मिंदगी मेहसूस हुई.

1990 में इंग्लैंड का वेस्टइंडीज़ दौरा

लारा ने कहा इंग्लैंड की टीम में इयान बॉथम और डेविड गॉवर नहीं थे, इसलिए उसके जीतने की कोई उम्मीद नहीं थी लेकिन जमैका में पहला टेस्ट जीतकर उसने सभी को चौका दिया. दूसरा टेस्ट बारिश के कारण धुलने की वजह से ड्रॉ हो गया और 1-0 की बढत के साथ इंग्लैंड तीसरे टेस्ट के लिए त्रिनिदाद पहुंची.

कप्तान ग्राहम गूच ने ग्रीन विकेट पर टॉस जीतकर वेस्टइंडीज़ को पहले बल्लेबाज़ी को कहा. पांचवे दिन इंग्लैंड बहुत मज़बूत स्थिति में थी तभी बारिश आ गई और एक सेशन का खेल नहीं हो पाया लेकिन तब भी इंग्लैंड के पास छोटा सा लक्ष्य प्राप्त करने के लिए काफी समय था. यहां एक तरफ जहां ग्राउड स्टाफ़ ने मैदान में गीली जगहों को सुखाने में समय ज़ाया किया वहीं वेस्टइंडीज़ के बॉलर्स ने एक घंटे में सिर्फ 7 ओवर फेंके. मैं इस मैच में भी बाहर था और मैच ड्रॉ हो गया.

First published: 6 September 2017, 15:35 IST
 
अगली कहानी