Home » क्रिकेट » champions trophy: india-pakistan facing each other in final after 32 years in starting match of the tournament
 

चैंपियंस ट्रॉफी फ़ाइनल: क्यों पाकिस्तान पर भारत की जीत पक्की है?

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 June 2017, 11:50 IST

रविवार 18 जून को चिर प्रतिद्वंद्वी टीमें भारत और पाकिस्तान चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में आमने-सामने होंगी. खिताबी जीत के लिए ये दोनों टीमें मैदान में उतरने को तैयार हैं. लेकिन रविवार को होने वाला ये मुकाबला इसलिए भी ख़ास है, क्योंकि 32 साल बाद ऐसा पहली बार होगा, जब किसी वनडे चैंपियनशिप (50 ओवर) में अपने शुरुआती मुकाबले खेलने के बाद ये दोनों टीमें फाइनल में खेलेंगी.

1985 में हुआ था कारनामा

भारत और पाकिस्तान के बीच दोनों ही बार यह संयोग 'मिनी वर्ल्ड कप' के दौरान देखने को मिला. 1985 में ऑस्ट्रेलिया में खेले गए बेंसन एंड हेजेज वर्ल्ड चैंपियनशिप में ऐसा पहली बार हुआ. इस टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान ने अपने अभियान की शुरुआत एक-दूसरे के साथ खेलकर की और फाइनल में भी यही दोनों भिड़े. इस टूर्नामेंट में शास्त्री 'चैंपियंन ऑफ चैंपियंस' रहे और उन्हें शानदार ऑडी कार इनाम के तौर पर मिली.

2017 में रिपीट हुआ इतिहास

1998 में शुरू हुए आईसीसी टूर्नामेंट, जिसे 2002 में चैंपियंस ट्रॉफी का नाम मिला, को भी 'मिनी वर्ल्ड कप' के नाम से जाना जाता है. चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में भी भारत-पाकिस्तान अपने शुरुआती मैच में भिड़ने के बाद फाइनल में खेलने जा रहे हैं.

दरअसल 1985 के बेंसन एंड हेजेज कप की चैंपियन रही टीम इंडिया ने पाकिस्तान को अपने शुरुआती मैच में 6 विकेट से हराकर अभियान का आगाज किया था. इसी तरह चैंपियंस ट्रॉफी-2017 में भी भारत ने पाकिस्तान को 124 रनों से करारी शिकस्त देकर शानदार शुरुआत की.

1985 में सुनील गावस्कर की कप्तानी में भारत ने जावेद मियांदाद की पाकिस्तानी टीम को फाइनल में 8 विकेट से हराकर बेंसन एंड हेजेज ट्रॉफी पर कब्जा किया था. रविवार को सबकी नज़रें विराट कोहली और उनकी टीम पर है.

First published: 17 June 2017, 11:50 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी