Home » क्रिकेट » Dale Steyn Lied About dismissal of sachin Tendulkar in 190s in Gwalior ODI
 

डेल स्टेन ने सचिन तेंदुलकर को 190 पर आउट करने का किया था दावा, जानिए क्या है इसकी सच्चाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 May 2020, 17:55 IST
Dale Steyn

दक्षिण अफ्रीका (South Afirca)  के तेज गेंदबाज डेल स्टेन (Dale Steyn) ने बीते दिनों ही जेम्स एंडरसन के साथ बातचीत के दौरा कहा था कि वो सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को उस मैच में 190 पर आउट करने पर सफल हुए थे जिसमें उन्होंने वनडे क्रिकेट के इतिहास का पहला दोहरा शतक जड़ा था. हालांकि, उन्होंने आगे दावा किया था कि अंपायर ने मैदान पर मौजूद दर्शकों के डर के कारण उन्हें नॉट-आउट करार दिया था. लेकिन उनके दावों में दम नजर नहीं आता है.

साल 2010 में दक्षिण अफ्रीकी टीम तीन वनडे मैचों की सीरीज (India vs South Afrcica ODI Series) के लिए भारत दौरे  पर (South Africa Tour India) आई थी. इस सीरीज का दूसरा मुकाबला ग्वालियर में खेला गया था जिसमें पहले बल्लेबाजी करते हुए सचिन तेंदुलकर के दोहरे शतक के दम पर टीम इंडिया (Team India) निर्धारित 50 ओवरों में 401 रन बनाने में सफल हुई थी. सचिन तेंदुलकर ने इस मुकाबले में इतिहास रच दिया था क्योंकि वो पहले बल्लेबाज थे जिन्होंने वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक जड़ा था.


वहीं डेल स्टेन ने दावा किया था कि उन्होंने सचिन को 190 के स्कोर के दौरान पगबाधा आउट कर दिया था. हालांकि, उनका यह दावा झूठा है क्योंकि सचिन जब 190 के स्कोर पर पहुंचे थे तो उसके बाद उन्होंने तीन गेंद खेली थी जो तीनों उनके बल्ले पर लगी थी.

सचिन तेंदुलकर जब इस मैच में 150 रनों के स्कोर पर बल्लेबाजी कर रहे थे, तब तक दांए हाथ के तेज गेंदबाज ने उन्हें सिर्फ तीन गेंद फेंकी और वे सभी गेंदें बल्ले से खेली गईं. तेंदुलकर ने उस खेल में स्टेन की 31 गेंदों का सामना किया और उनमें से किसी ने भी करीब एलबीडब्ल्यू चिल्लाया नहीं था.

190 के दशक में सचिन के प्रवेश करने के बाद, स्टेन ने 47 वां और 49 वां ओवर फेंका. उन 12 गेंदबाजों में से 47 वें ओवर में तेंदुलकर ने इन तीनों का सामना किया, जबकि उनके बैटिंग पार्टनर एमएस धोनी ने 49 वां ओवर खुद ही खेला.

मौजूदा स्थिति में असंभव है टीम इंडिया का श्रीलंका दौरा- बीसीसीआई अधिकारी

First published: 17 May 2020, 17:55 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी