Home » क्रिकेट » Dinesh mongia announce Retirement From All Form oF Cricket
 

BCCI से पंगा लेना इस खिलाड़ी को पड़ा भारी, करियर हुआ खत्म

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 September 2019, 16:26 IST

साल 2003 के विश्व कप में भारतीय टीम सौरव गांगुली की अगुवाई में फाइनल मुकाबले तक पहुंची थी. विश्व कप का फाइनल मुकाबला ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच खेला गया जिसमें भारत को हार का सामना करना पड़ा. ऑल राउंडर खिलाडी़ दिनेश मोंगिया इसी टीम के सदस्य थे. इसके बाद दिनेश मोंगिया ने करीब चार साल और क्रिकेट खेला लेकिन इसके बाद उन्हें भारतीय टीम में जगह नहीं मिली. वहीं मंगलवार को दिनेश मोगिंया ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का ऐलान कर दिया.

दिनेश मोंगिया ने साल 1995-96 तक पंजाब की तरफ से घरेलू क्रिकेट में खेला था. इस दौरान उन्होंने दमदार प्रदर्शन किया और जल्द ही टीम में उन्होंने अपनी जगह बना ली. साल 2003 के विश्व कप सेमीफाइनल मुकाबले में मोगिंया को वीवीएस लक्ष्मण की जगह टीम में चुना गया था. इसके अलावा मोंगिया साल 2004 में इंग्लैंड की काउंटी क्रिकेट में भी खेल चुके है.


 

2004 में उन्हें स्टुअर्ट लॉ की जगह लंकाशर टीम में शामिल किया गया था. इतना ही नहीं मोंगिया लैशिंग 11 के लिए भी खेले है. दिनेश मोंगिया ने साल 2001 में पुणे में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना डेब्यू किया था. वहीं जिंबाब्वे के खिलाफ निर्णायक मुकाबले में उन्होंने 147 गेंदों पर नाबाद 159 रनों की पारी खेली थी. इस पारी के दम पर भारत ने इस सीरीज में जीत हासिल की थी. दिनेश मोंगिया के करियर का यह पहला और आखिरी शतक था.

दिनेश मोंगिया ने साल 2006 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहला टी 20 मुकाबला भी खेला था. इस मुकाबले में उन्होंने 38 रन बनाए थे. वहीं मोंगिया के क्रिकेट करियर पर उस समय विराम लग गया था जब उन्होंने बीसीसीआई की आदेश ना मानते हुए आईसीएल लीग में हिस्सा लिया था. बीसीसीआई ने आईसीएल लीग पर बैन लगाया था. बीसीसीआई ने आईसीएल खेलने वाले कई खिलाड़ियों पर प्रतिबंध लगाए थे हालांकि कई खिलाड़ियों को माफ कर दिया गया लेकिन मोंगिया को इसकी सजा भुगतनी पड़ी.

टीम इंडिया के कई खिलाड़ियों पर BCCI की नजर, मैच फिक्सिंग में शामिल होने का शक- रिपोर्ट

First published: 18 September 2019, 16:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी