Home » क्रिकेट » Gautam Gambhir reacts on India's 2011 World Cup final
 

साल 2011 के विश्व कप को लेकर गौतम गंभीर ने दिया बड़ा बयान, कही ये बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 April 2021, 23:33 IST
Gautam Gambhir reacts on India's 2011 World Cup final

2 अप्रैल 2011 का दिन शायद की कोई भारतीय फैंस भूल पाए. इस दिन महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में टीम इंडिया ने 28 साल बाद आईसीसी विश्व कप का खिताब अपने नाम किया था. मुंबई के वानखेड़े में हुए मुकाबले में टीम इंडिया ने बेहतरीन प्रदर्शन किया था. पहले टीम इंडिया ने बल्लेबाजो की मददगार पिच पर श्रीलंकाई टीम को 300 से कम के स्कोर पर रोक लिया और उसके बाद गौतम गंभीर की 97 और धोनी की 91 रनों की पारी के दम पर टीम इंडिया ने आसानी से मुकाबला अपने नाम कर लिया. शुक्रवार को टीम इंडिया की इस जीत के 10 साल पूरे हो जाएंगे और उससे पहले टीम इंडिया के पूर्व कप्तान गौतम गंभीर ने इसको लेकर अपनी बात रखी है.

न्यूज एजेंसी पीटीआई से बात करते हुए गौतम गंभीर ने कहा,"ऐसा नहीं लगता कि यह कल की बात है. कम से कम मेरे साथ ऐसा नहीं है. इसे अब 10 साल बीत चुके हैं. मैं ऐसा व्यक्ति नहीं हूं जो पीछे मुड़कर काफी अधिक देखता है. बेशक यह गौरवपूर्ण लम्हा था लेकिन अब भारतीय क्रिकेट के लिए आगे बढ़ने का समय है. शायद समय आ गया है कि हम जल्द से जल्द अगला विश्व कप जीतें." उन्होंने आगे कहा,"2011 में हमने ऐसा कुछ नहीं किया जो हमें नहीं करना चाहिए था. हमें विश्व कप में खेलने के लिए चुना गया था, हमें विश्व कप जीतना था. जब हमें चुना गया तो हमें सिर्फ टूर्नामेंट में खेलने के लिए नहीं चुना गया, हम जीतने के लिए उतरे थे. जहां तक मेरा सवाल है अब इस तरह की कोई भावना नहीं बची है. हमने कोई असाधारण काम नहीं किया, हां हमने देश को गौरवांवित किया, लोग खुश थे, यह अब अगले विश्व कप पर ध्यान लगाने का समय है."


विराट कोहली की अगुवाई में टीम इंडिया कोई आईसीसी टूर्नामेंट जीतने में सफल नहीं हो पाई है. हालांकि, इस दौरान टीम नेे अच्छा प्रदर्शन जरूर किया है. वहीं गंभीर का मानना है कि पिछे मुड़कर देखने के कारण शायद टीम आगे नहीं बढ़ पाई है. गौतम गंभीर ने कहा,"अगर हम 2015 या 2019 विश्व कप जीत जाते तो शायद भारत को विश्व क्रिकेट में सुपर पावर माना जाता. इसे 10 साल हो चुके हैं और हमने कोई दूसरा विश्व कप नहीं जीता. इसलिए मैं अतीत की उपलब्धियों को लेकर अधिक उत्सुक नहीं होता." गौतम गंभीर ने आगे कहा,"मुझे समझ नहीं आता कि लोग पीछे मुड़कर 1983 या 2011 के शीर्ष पलों को क्यों देखते हें. हां, इसके बारे में बात करना अच्छा लगता है या यह ठीक है. हमने विश्व कप जीता लेकिन पिछले मुड़कर देखने की जगह आगे बढ़ना हमेशा अच्छा होता है."

ICC ने डीआरएस और तीसरे अंपायर्स से जुड़े नियमों में किए तीन बदलाव, अंपायर्स कॉल को लेकर हुआ ये फैसला

First published: 1 April 2021, 23:33 IST
 
अगली कहानी