Home » क्रिकेट » handicapped spin bowler Shankar Sajjan Afghanistan batsman for his abnormal skills of bowling
 

दोनों हाथों से विकलांग लेकिन उनकी स्पिन के आगे टिक नहीं पाए अफगानी बल्लेबाज

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 June 2018, 15:11 IST

आज से करीब तीन साल पहले टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और कोच अनिल कुंबले बेंगलुरु में ‘स्पिन स्टार्स हंट’ के लिए गए थे. अनिल कुंबले ने इस कार्यक्रम में इसलिए हिस्सा लिया था क्योंकि उनका मकसद स्पिन गेंदबाजी करने वाले भविष्य के गेंदबाजों की खोज करना था.

इस दौरान अनिल कुंबले ने लगभग दो हजार स्पिनरों को देखा और इनमें से सिर्फ 110 खिलाड़ियों को चुना. इस दौरान अनिल कुंबले ने एक 17 साल के लड़के को भी चुना जिसे सेलेक्टर्स ने फेल कर दिया था. लेकिन बाद में कुंबले ने उसे सेलेक्टर्स से खास अनुरोध करके सेलेक्ट करवाया था.

ये टेस्ट बेंगलुरु के एनआरए मैदान पर हुआ था. जिस लड़के की सिफारिश अनिल कुंबले ने उसका नाम शंकर सज्जन था. बता दें कि शंकर सज्जन दोनों हाथों से विकलांग है. लेकिन आज शंकर सज्जन की स्पिन के सामने अच्छे-अच्छे बल्लेबाज मात खा जाते हैं.

बता दें कि भारत और अफगानिस्तान के बीच 14 जून से एतिहासिक टेस्ट मैच शुरू होने जा रहा है. इसके लिए दोनों देशों की टीमें तैयारी में जुटी हैं और जमकर पसीना बहा रही हैं. मंगलवार (12 जून) को भी दोनों टीमों ने मैच प्रेक्टिस की. इस दौरान शंकर ने अफगानिस्तान के बल्लेबाजों को नेट प्रैक्टिस के लिए गेंद फेंकी.

शुरुआत में तो अफगानी बल्लेबाज शंकर सज्जन को हल्के में लेते रहे लेकिन जैसे ही शंकर ने अपने आत्मविश्वास के साथ गेंद कराईं और उनके धड़ाधड़ विकेट चटकने शुरू किए तो उन्हें पता चल गया कि उनसे इस गेंदबाज की प्रतिभा को आंकने में भूल हो गई है.

दरअसल, अफगानिस्तान के बल्लेबाजों को सबसे ज्यादा दिक्कत शंकर सज्जन की गुगली गेंद खेलने में हुई. अफगानी बल्लेबाज समझ ही नहीं पा रहे थे कि आखिर कैसे दोनों हाथों से विकलांग शख्स इतनी सधी हुई लाइन और लेंथ के साथ गेंदबाजी कर सकता है. 18 साल के शंकर सज्जन ने नेट प्रेक्टिस सेशन के बाद मीडिया से बातचीत की.

ये भी पढ़ेंः वनडे मैच में पहली बार लगे इतने शतक, बन गया ऐतिहासिक वर्ल्ड रिकॉर्ड

शंकर ने कहा, ”कुंबले और राशिद खान मेरे हीरो हैं. मैं उन दोनों को ही बहुत प्यार करता हूं.” बता दें कि शंकर सज्जन फिलहाल बेंगलुरु के एम. चिन्नास्वामी स्टेडियम में नियमित प्रैक्टिस करते हैं. यही कारण था कि कर्नाटक राज्य क्रिकेट एसोसिएशन के अधिकारी ने उन्हें अफगानी खिलाड़ियों को गेंद फेंकने के लिए उन्हें बुलाया था.

First published: 13 June 2018, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी