Home » क्रिकेट » Harbhajan Singh Question Delay in Paper Submission for Khel Ratna
 

हरभजन सिंह ने पंजाब सरकार पर लगाया आरोप, बोले- सरकार करे जांच आखिर..

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2019, 21:10 IST

भारतीय टीम के पूर्व स्पिन गेंदबाज़ और टर्बनेटर के नाम से मशहूर हरभजन सिंह का नाम राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार के लिए भेजा गया था. हालांकि खेल मंत्रालय ने उनका नामांकन खारिज कर दिया था. इसके पीछे मंत्रालय ने वजह दी थी कि उनका फार्म देरी से पहुंचा था. खेल मंत्रालय ने हरभजन सिंह के साथ साथ दुती चंद का भी अर्जुन अवॉर्ड के लिए आया नामांकन देरी से आने के कारण खारिज कर दिया था. वहीं अब हरभजन सिंह ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

हरभजन ने इस पूरे मामले पर पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी से अपील की है कि वो इस बात की जांच करे की खेल रत्न पुरस्कार के लिए उनका नामांकन देरी के क्यों भेजा गया. हरभजन सिंह ने कहा ,‘मुझे मीडिया से पता चला है कि पंजाब सरकार द्वारा राजीव गांधी खेल रत्न के लिए मेरे नाम का नामांकन भरने में देरी की गई. इसी कारण केंद्र ने उसे खारिज कर दिया. इसके पीछे वजह दी गई है कि मेरे कागजात देरी से पहुंचे थे. पता चला है कि देरी के कारण मुझे इस साल यह अवॉर्ड नहीं मिल पाएगा.’

साल 2011 नें विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा रहे हरभजन सिंह ने कहा,‘मैं पंजाब सरकार के खेल मंत्री से गुजारिश करना चाहता हूं कि वे इस मामले में जांच करें कि क्यों मेरे नामंकन में देरी की गई. जहां तक मेरी बात है तो मैंने 20 मार्च तक फॉर्म जमा कर दिया था. फिर भी इसमें देरी कैसे हुई. अगर यह समय पर होता तो मुझे इस साल यह अवॉर्ड मिल सकता था.’

हरभजन सिंह ने आगे कहा कि एक खिलाड़ी के तौर पर किसी के लिए भी प्रेरणा की बात होती है कि उसे उसके खेल के लिए सम्मान मिले लेकिन अगर इस तरह से देरी होती है और इस कारण कोई अवॉर्ड से वंचित रह जाए तो यह सही नहीं होगा. उन्होंने कहा,‘मुझे उम्मीद है कि संबंधित मंत्री इस पर काम करेंगे और केंद्र को मेरा नामांकन सही समय पर भेजेंगे.’

भारतीय टीम के हेड कोच रवि शास्त्री को लेकर आमने सामने आएंगे बीसीसीआई और सीओए?

First published: 31 July 2019, 21:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी