Home » क्रिकेट » hasin jahan claimed Mohammed shami had created a fake birth certificate to earn the place in Bengal Under-22 team
 

हसीन जहां का मोहम्मद शमी पर अजीबोगरीब आरोप, कहा- BCCI को बनाया 'उल्लू'

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 April 2018, 16:40 IST

क्रिकेटर मोहम्मद शमी और उनकी पत्नी हसीन जहां के बीच जारी विवाद हर दिन नया मोड़ लेता जा रहा है. हसीन जहां शमी पर आए दिन नए नए आरोप लगा रही हैं. हसीन ने शमी पर रेप और घरेलू हिंसा जैसे गंभीर आरोपों के तहत केस दर्ज कराया है. जिसकी कोलकाता पुलिस जांच कर रही हैं. वहीं हाल ही में हसीन ने आरोप लगाते हुए कहा था कि शमी उनका रेप कर जंगल में फेंक देना चाहते थे.

हसीन के इस बयान को लेकर क्रिकेट जगत में सनसनी फैल गई थी. अब एक बार फिर से हसीन ने शमी पर नया आरोप लगाया है. हसीन ने आरोप लगाते हुए कहा है कि शमी ने झूठा जन्म प्रमाणपत्र दिखाकर बीसीसीआई और बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन को बेवकूफ बनाया है. शमी ने फर्जी जन्म प्रमाणपत्र के द्वारा बंगाल अंडर-22 टीम में जगह हासिल की थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हसीन जहां ने शनिवार को अपने फेसबुक अकाउंट पर शमी के ड्राइविंग लाइसेंस की एक फोटो शेयर की है. इसके साथ ही हसीन ने केप्शन में लिखा है कि देखो फोटो में शमी की जन्म तारीख 1982 है. जबकि शमी की मौजूदा उम्र 28 साल है. जिसको लेकर हसीन ने कहा है कि वो झूठा है. हालांकि फोटो शेयर करने के कुछ घंटों के बाद हसीन की इस पोस्ट को फेसबुक से हटा दिया गया है.

हसीन ने फोटो के साथ केप्शन में लिखा, दोस्तों देख लो शमी की पैदाइश कब की है. वह खुद को 1990 का बताता है. उसने जाली प्रमाणपत्र लगाकार बीसीसीआई और कैब को उल्लू बनाया है. उसने अंडर-22 टीम में जगह बनाने के लिए फर्जी प्रमाणपत्र लगाया.

मुझे आप लोग बताओ उस लड़के का क्या दोष था. जो सच में 22 साल का था. लेकिन शमी की वजह से वो नहीं खेल पाया. इसके साथ ही हसीन ने कहा कि शमी ने सबको कहा कि उम्र के हिसाब से मैं बड़ी हूं. लेकिन अब खुद ही देख लो कौन बड़ा है.

हसीन ने कहा है कि शमी ने ड्राइविंग लाइसेंस ही नहीं और भी कई सारे फर्जी सर्टिफिकेट बनवाए हैं. लेकिन बीसीसीआई और कैब अब भी शमी को बचाने की कोशिश करेगी.

 

उन्होंने कहा अगर अगर बीसीसीआई, कैब या उत्तर प्रदेश की सरकार इसके बाद भी शमी की गलती को ढकने की कोशिश करती है, तो आप लोग भी फर्जी सर्टिफिकेट बनवा कर काम में लगा सकते हैं. क्योंकि पश्चिम बंगाल में ऐसा करना संभव नहीं है. अब देखना होगा कि क्या बीसीसीआई हसीन के इन आरोपों की जांच करती है या नहीं.

First published: 28 April 2018, 16:40 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी