Home » क्रिकेट » ICC Full Members are on the verge of clamping down on player participation in domestic T20 leagues
 

IPL जैसे T20 टूर्नामेंट खेलने में मस्त हैं खिलाड़ी, अब ICC के नियम होंगे कड़े!

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 July 2018, 17:31 IST

तेजी से बढ़ रहे टी-20 लीग टूर्नामेंट की वजह से इंटरनेशनल बायलेटरल क्रिकेट प्रभावित हो रही है. अब इस पर शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है. आईसीसी के सदस्य इन लीगों पर शिकंजा कसने के लिए एक नियम लागू कर सकते है. बहुत जल्द इसको लेकर फैसला लिया जा सकता है.

ईएसपीएन क्रिकइंफो की एक रिपोर्ट के मुताबित. तेजी से बढ़ रहे T20 लीग टूर्नामेंटों के चलते इंटरनेशल क्रिकेट पर असर हो रहा है. जिसको देखते हुए आईसीसी के सदस्य देश बहुतच जल्द इस पर फैसला कर सकते हैं. खबर की माने तो आईसीसी के सदस्य देश अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ियों के लिए एक साल में तीन T20 लीग में हिस्सा लेने का नियम लागू कर सकते हैं. यानी, कोई भी खिलाड़ी एक साल में तीन से ज्यादा T20 लीग में हिस्सा नहीं ले सकेगा. 

ऐसे में तीन टी-20 लीग का यह नियम कैप्ड खिलाड़ियों को अपनी टीम के लिए खेलने को बाध्य कर देगी. इंटरनेशनल बायलेटरल क्रिकेट को प्रभावित होने से बचाने के लिए आईसीसी के सदस्यों देशों ने ये कदम उठाने का फैसला किया है.

बता दें कि मौजूदा समय में कई देशों ने T20 लीग टूर्नामेंट शुरू कर दिए हैं. अभी पूरी दुनिय में नौ T20 लीग खेले जाते हैं. इसमें आईपीएल, पाकिस्तान सुपर लीग, बिग बैश लीग, टी-20 ब्लास्ट, कैरेबियन प्रीमियर लीग, टी-20 ग्लोबल लीग, एससीएल और सुपर स्मैश लीग शामिल हैं. इन टूर्नामेंट में सभी देशों के कैप्ड और अनकैप्ड खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं.

भारत में होने वाले आईपीएल में भी कई देशों के खिलाड़ी खेलने आते हैं. हालांकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड अपने खिलाड़ियों को आईपीएल के अलावा दूसरे देशों के लीग में हिस्सा लेने की अनुमति नहीं देता है. बीसीसीआई की तरह ही अन्य देश भी इस तरह का फैसला लेने पर विचार कर रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- 'मुल्‍तान के सुल्‍तान' नहीं, इस जहां के भी 'बादशाह' हैं वीरेंद्र सहवाग

First published: 2 July 2018, 17:31 IST
 
अगली कहानी